अब खून की जांच से लगाया जा सकेगा अल्जाइमर का पता

अभी अल्जाइमर बीमारी के बारे में मस्तिष्क के स्कैन और सेरीब्रोस्पाइनल तरल के परीक्षण से पता चलाया जाता है.

अब खून की जांच से लगाया जा सकेगा अल्जाइमर का पता
अल्जाइमर के लक्षण सामने आने से पहले ही इलाज की संभावना

बोस्टनः वैज्ञानिकों ने खून की एक ऐसी जांच विकसित की है जिससे भूलने की बीमारी अल्जाइमर के बारे में सटीक पता लगाया जा सकता है और यहां तक कि अल्जाइमर के लक्षण सामने आने से पहले ही किसी मनुष्य में इसके होने की आशंका के बार में भी मालूम किया जा सकता है. दरअसल, अभी अल्जाइमर बीमारी के बारे में मस्तिष्क के स्कैन और सेरीब्रोस्पाइनल तरल के परीक्षण से पता चलाया जाता है. यह तरल मेरूदंड में सूई डाल कर निकाला जाता है. 

इस तेल का सेवन हो सकता है खतरनाक, आज से ही खाना छोड़ दें

यह प्रक्रिया खर्चीली है, लेकिन यह रोगी की हालत के बारे में सटीक जानकारी देती है. अमेरिका के बर्मिंघम एडं विमन्स हॉस्पिटल के अनुसंधानकर्ता ऐसा खून की ऐसी जांच की विधि विकसित करने की दिशा में काम कर रहे हैं जो इस कष्टदाई प्रक्रिया का स्थान ले सके. 

MRI स्कैन से लगाया जाएगा डिमेंशिया का पता

अस्पताल से डोमिनिक वाल्श ने कहा, ''अल्जाइमर की बीमारी के लिए रक्त परीक्षण आसानी से और अनेक बार दफ्तर के प्राइमरी केयर में ही किया जा सकता है. इसके लिए अस्पताल जाने की जरूरत नहीं है.'' उन्होंने कहा, ''हमारे परीक्षण को और लोगों पर कर उसे सत्यापित करन की जरूरत है, लेकिन शुरूआत में लोगों के दो समूह पर परीक्षण में जैसे नतीजे आए हैं वैसे और नतीजे आते हैं तो यह एक अहम उपल्ब्धि साबित होगी.'' (इनपुटः भाषा)