#DelhiFireTragedy: 22 साल बाद फिर आग की तपिश से झुलस गई दिल्ली, जानिए 10 बड़ी बातें

दिल्ली के रानी झांसी रोड स्थित अनाज मंडी इलाके में एक चार मंजिला इमारत में रविवार को लगी भीषण आग में 43 लोगों की मौत हो गई. 

#DelhiFireTragedy: 22 साल बाद फिर आग की तपिश से झुलस गई दिल्ली, जानिए 10 बड़ी बातें
रविवार को लगी भीषण आग में 43 लोगों की मौत हो गई. इस हादसे में अब तक 60 से ज्यादा लोगों की जान बचाई गई है..(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: दिल्ली के रानी झांसी रोड स्थित अनाज मंडी इलाके में एक चार मंजिला इमारत में रविवार को लगी भीषण आग में 43 लोगों की मौत हो गई. इस हादसे में अब तक 60 से ज्यादा लोगों की जान बचाई गई है. लेडी हार्डिग अस्पताल में भर्ती 10 घायलों में से नौ की मौत हो चुकी है. वहीं, एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती घायलों में 34 लोगों की मौत हो चुकी है.

इमारत स्थित फैक्टरी में रविवार की सुबह करीब 4.30-5 बजे के आस पास आग लगी, जब वहां काम करने वाले मजदूर सो रहे थे. अग्निशमन विभाग ने बताया कि बाजार में आग लगने की सूचना उसे सुबह करीब 5.22 पर मिली, जिसके बाद दमकल की 25 गाड़ियां मौके पर पहुंचीं. आग लगने की सही वजह का पता नहीं चल पाया है, लेकिन अधिकारियों का कहना है कि आग शॉर्ट सर्किट की वजह से लगी होगी.  

एक नजर में जानिए, दिल्ली अग्निकांड से जुड़ी 10 बड़ी बातें :- 
1 . दिल्ली के अनाज मंडी इलाके में आग से 43 लोगों की मौत
2 . जिस बिल्डिंग में आग लगी उसका मालिक रेहान गिरफ्तार
3 . रेहान का मैनेजर फुरकान भी गिरफ्तार किया गया
4 . दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए
5 . दिल्ली सरकार, केंद्र सरकार ने मृतकों के परिवार को मुआवजे का ऐलान किया
6 . राष्ट्रपति कोविंद, प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने हादसे पर शोक जताया
7 . दिल्ली में 22 सालों की सबसे बड़ी आग लगने की घटना
8 . आग लगने की शुरुआती वजह शार्ट सर्किट बताई जा रही है
9 . जिस बिल्डिंग में आग लगी उसमें मजदूर, कारीगर रहते थे
10. ज्यादातर मजदूर और कारीगर यूपी और बिहार के थे

हादसे में मरने वाले के परिजनों को आर्थिक सहायता 
दिल्ली सरकार ने हादसे में मरने वाले के परिजनों को 10 लाख रुपये और घायलों को एक लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की. वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मृतकों के परिवारों व घायलों को क्रमश: दो लाख और 50,000 रुपये प्रदान करने की मंजूरी दी है. दिल्ली भाजपा इकाई ने मृतकों के परिजनों को पांच लाख रुपये और घायलों को 25,000 रुपये देने की घोषणा की है.

माना जाता है कि यह दिल्ली के सबसे बड़े अग्निकांडों में एक है. इससे पहले 13 जून, 1997 को दक्षिणी दिल्ली के ग्रीन पार्क इलाके में स्थित उपहार सिनेमा में ऐसी ही घटना घटी थी, जिसमें 59 लोगों की जान चली गई थी और 100 से अधिक लोग घायल हुए थे.