सरकार ने संसद में कहा, 'पंजाब में दो साल में हुआ 18 खालिस्तानी संगठनों का भांडाफोड़'

गृह राज्यमंत्री हंसराज गंगाराम अहीर ने राज्यसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में हाल ही में अमृतसर के पास एक प्रार्थना सभा में हुए ग्रेनेड हमले की वारदात का हवाला देते हुए यह जानकारी दी.

सरकार ने संसद में कहा, 'पंजाब में दो साल में हुआ 18 खालिस्तानी संगठनों का भांडाफोड़'
गृह राज्यमंत्री हंसराज गंगाराम अहीर (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: पंजाब में पिछले दो साल के दौरान 18 खालिस्तानी संगठनों का भांडाफोड़ होने और इनसे जुड़े 95 लोगों के गिरफ्तार किए जाने की सरकार ने संसद को जानकारी दी है. गृह राज्यमंत्री हंसराज गंगाराम अहीर ने बुधवार को राज्यसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में हाल ही में अमृतसर के पास एक प्रार्थना सभा में हुए ग्रेनेड हमले की वारदात का हवाला देते हुए यह जानकारी दी. 

अहीर ने बताया कि अमृतसर ग्रेनेड हमला मामले में खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट (केएलएफ) और इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन की संलिप्तता देखी गयी. अहीर ने इस घटना के सिलसिले में पंजाब पुलिस ने दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किए जाने और विदेश में रह रहे तीन अन्य व्यक्तियों को नामजद कर ओपन डेटेड वारंट (ऐसा वारंट जिसकी तामील की कोई तारीख न हो) जारी करने की जानकारी देते हुए बताया कि दो साल के भीतर इस तरह की कार्रवाई में 95 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. 

उन्होंने बताया कि सुरक्षा एजेंसियों ने पिछले दो साल में 18 खालिस्तानी उग्रवादी संगठनों का भांडाफोड़ कर 95 आरापी लोगों को गिरफ्तार किया गया है. उल्लेखनीय है कि सरकार ने केएलएफ को गैरकानूनी गतिविधि (निरोधक) कानून के तहत पिछले सप्ताह प्रतिबंधित घोषित किया है.

पाकिस्तानी आतंकवादी संगठनों ने भारत में ‘समुद्री जिहाद का हुक्म दिया
वहीं सरकार ने सुरक्षा एजेंसियों के हवाले से संसद को बताया है कि पाकिस्तान आधारित आतंकवादी संगठनों ने भारत के खिलाफ 'समुद्री जिहाद' का हुक्म दिया है. गृह राज्य मंत्री हंसराज गंगाराम अहीर ने बुधवार को राज्यसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में यह जानकारी दी. 

सरकार को पाकिस्तानी आंतकवादी समूह की समुद्री जिहाद की संकल्पना के बारे में जानकारी होने के सवाल पर अहीर ने बताया, 'उपलब्ध इनपुट के अनुसार पाकिस्तान आधारित संगठनों ने अपने सदस्यों को भारत के खिलाफ 'समुद्री जिहाद' के लिए हुक्म दिया है.' 

अहीर ने हालांकि किसी आतंकवादी संगठन द्वारा पत्तन, स्वतंत्र समुद्री क्षेत्र में कार्गो तथा तेल के टैंकरों पर 26/11 के आतंकी हमले की तरह का हमला करने का कोई विशिष्ट इनपुट नहीं होने की सदन को जानकारी दी. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन अपने काडरों को समुद्री हमला क्षमताओं हेतु प्रशिक्षण जारी रखे हुये हैं जिससे जल मार्ग से भारत में घुसपैठ करा सकें.

(इनपुट - भाषा)