close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

शौर्य के 20 साल: राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, सशस्त्र बलों ने कारगिल के नायकों को किया याद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कारगिल के शहीदों के प्रति हृदय से आभार व्यक्त करते हुए ट्वीट किया, 'कारगिल विजय दिवस पर मां भारती के सभी वीर सपूतों का मैं हृदय से वंदन करता हूं. 

शौर्य के 20 साल: राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, सशस्त्र बलों ने कारगिल के नायकों को किया याद
फाइल फोटो

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और भारतीय सेना ने शुक्रवार को ऑपरेशन विजय में भाग लेने वाले सैनिकों की वीरता को याद करते हुए कारगिल युद्ध की 20वीं वर्षगांठ मनाई. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट किया, 'कारगिल विजय दिवस, हमारे कृतज्ञ राष्ट्र के लिए 1999 में कारगिल की चोटियों पर अपने सशस्त्र बलों की वीरता का स्मरण करने का दिन है. हम इस अवसर पर, भारत की रक्षा करने वाले योद्धाओं के धैर्य व शौर्य को नमन करते हैं. हम सभी शहीदों के प्रति आजीवन ऋणी रहेंगे. जय हिन्द.'

कारगिल युद्ध में शहीद हुए जवानों को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने श्रीनगर में आयोजित समारोह में कारगिल युद्ध में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की. राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद का शुक्रवार को प्रस्तावित द्रास दौरा खराब मौसम के कारण रद्द कर दिया गया. राष्ट्रपति कारगिल जिला के द्रास कस्बे में कारगिल विजय की 20वीं सालगिरह पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने वाले थे.

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कारगिल के शहीदों के प्रति हृदय से आभार व्यक्त करते हुए ट्वीट किया, 'कारगिल विजय दिवस पर मां भारती के सभी वीर सपूतों का मैं हृदय से वंदन करता हूं. यह दिवस हमें अपने सैनिकों के साहस, शौर्य और समर्पण की याद दिलाता है. इस अवसर पर उन पराक्रमी योद्धाओं को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि, जिन्होंने मातृभूमि की रक्षा में अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया. जय हिंद.'

 

भारतीय वायु सेना ने कहा, 'कारगिल शहीदों को नमन और हमारे वीर सैनिकों के साहस, वीरता और बलिदान को सलाम. भारत की अखंडता को बनाए रखने और उसकी रक्षा करने वाले बहादुर सैनिकों की शहादत को याद करें.'

 

रक्षा मंत्रालय (सेना) के जन सूचना के अतिरिक्त महानिदेशक ने ट्वीट किया, 'साल 1999 में मई-जुलाई तक हुए कारगिल युद्ध के बाद 26 जुलाई कारगिल विजय दिवस के रूप में देश की शानदार जीत की अमरकथा बन गया. भारतीय सेना के सैनिकों ने द्रास, काकसार, बाटलिक और टरटोक सेक्टरों में शानदार युद्ध किया. हमारे शहीदों और नायकों के साहस, वीरता और बलिदान को सलाम.'