JNU में रोज 3000 कंडोम मिलने का सबूत जल्द पेश करूंगा: भाजपा विधायक ज्ञानदेव अहूजा

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में रोज 3000 कंडोम मिलने का दावा करने वाले राजस्थान के अलवर जिले में रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने कहा है कि वे अपने दावे को साबित करने के लिए जल्द ही सबूत सामने लेकर आएंगे। इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, आहूजा ने कहा- मैं उन नेताओं में से हूं जो अपनी बात पर कायम रहते हैं। गवाह और सबूत दोनों पेश करूंगा। विधायक का कहा था यूनिवर्सिटी परिसर ‘सेक्स और ड्रग्स’ का गढ़ बन गया है। यहां रोजाना 3000 से ज्यादा कंडोम और 2000 बोतल से ज्यादा शराब की खपत होती है।

JNU में रोज 3000 कंडोम मिलने का सबूत जल्द पेश करूंगा: भाजपा विधायक ज्ञानदेव अहूजा

नई दिल्ली: जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में रोज 3000 कंडोम मिलने का दावा करने वाले राजस्थान के अलवर जिले में रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने कहा है कि वे अपने दावे को साबित करने के लिए जल्द ही सबूत सामने लेकर आएंगे। इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, आहूजा ने कहा- मैं उन नेताओं में से हूं जो अपनी बात पर कायम रहते हैं। गवाह और सबूत दोनों पेश करूंगा। विधायक का कहा था यूनिवर्सिटी परिसर ‘सेक्स और ड्रग्स’ का गढ़ बन गया है। यहां रोजाना 3000 से ज्यादा कंडोम और 2000 बोतल से ज्यादा शराब की खपत होती है।

भाजपा विधायक ज्ञानदेव ने आरोप लगाया था कि जेएनयू में पढ़ने वाले लोग इन अवैध गतिविधियों में लिप्त हैं। आहूजा ने कहा था, जेएनयू परिसर में रोजाना सिगरेट के 10000 से ज्यादा और बीड़ी के 4000 जले हुए टुकड़े मिलते हैं। मांसाहार करने वाले हड्डियों के छोटे-बड़े 50,000 टुकड़े छोड़ते हैं। वे मांसाहार करते हैं, ये देशद्रोही। चिप्स और नमकीन के 2000 पैकेट मिलते हैं, और 3000 इस्तेमाल किए हुए कंडोम। वहां वे हमारी बहनों और बेटियों के साथ गलत करते हैं। गर्भनिरोध के इस्तेमाल किए हुए 500 इंजेक्शन भी मिले हैं। 

उन्होंने दावा किया था, इसके अलावा परिसर में शराब की 2000 बोलतें और बीयर के 3000 से ज्यादा कैन रोजाना वहां मिलते हैं। उन्होंने सवाल किया, इन्हें कौन पीता है? अनुमान लगाएं। भाजपा विधायक ने यह भी दावा किया था, रात 8 बजे के बाद परिसर के भीतर छात्र अकसर ड्रग्स का सेवन करते मिलते हैं। जेएनयू में पढ़ने वाले लोग बच्चे नहीं हैं, बल्कि उनमें से कई दो बच्चों के अभिभावक हैं। वे लोग दिन में शांति प्रदर्शन में भाग लेते हैं और रात में अश्लील नाच करते हैं।