पुणे: शहीदों की श्रद्धांजलि सभा में जूनियर टिकट कलेक्टर ने लगाए 'देशविरोधी नारे', सस्पेंड

रेलवे ने आनन-फानन में कार्रवाई करते हुए आरोपी को निलंबित कर दिया है. उसे पुलिस हिरासत में भी लिया गया है.

पुणे: शहीदों की श्रद्धांजलि सभा में जूनियर टिकट कलेक्टर ने लगाए 'देशविरोधी नारे', सस्पेंड
आरोपी का नाम कुमार उपेंद्र बहादुर सिंह बताया जा रहा है...(प्रतीकात्मक तस्वीर)

पुणे: पुलवामा आतंकवादी हमले में शहीदों जवानों के लिए आयोजित श्रद्धांजलि सभा में उस समय एक जूनियर टिकट कलेक्टर पर देशविरोधी नारे लगाने का आरोप है. आरोपी का नाम कुमार उपेंद्र बहादुर सिंह बताया जा रहा है. न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक, रेलवे ने आनन-फानन में कार्रवाई करते हुए आरोपी को निलंबित कर दिया है. उसे पुलिस हिरासत में भी लिया गया है. ऐसे समय में जब पूरे देश में पुलवामा हमले को लेकर आक्रोश है, इस तरह की घटना हैरान कर देने वाली है. 

लोनावाला पुलिस स्टेशन के सीनियर इंस्पेक्टर बीआर पाटिल के मुताबिक, यह घटना लोनावाला के शिवाजी चौक की बताई जा रही है जहां कुछ स्थानीय लोग पुलवामा आतंकी हमले में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देने के लिए इकट्ठे हुए थे. इसी दौरान कुमार उपेंद्र बहादुर सिंह वहां पहुंचा और देश विरोधी नारे लगाने लगा. लोगों ने जब देशविरोधी नारे सुने, तो नाराज हो गए और उसे पीटने की कोशिश की लेकिन वहां पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने उसे गिरफ्तार कर लिया." 

पाटिल के मुताबिक, आरोपी को कोर्ट में पेश किया गया जहां से उसे 18 फरवरी तक के लिए पुलिस रिमांड में भेज दिया गया.  

पुणे में दुकानदार ने पाकिस्तानी झंडे जलाने के लिए मुफ्त में दिए लाइटर
इसी बीच, जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर हुए आतंकवादी हमले के खिलाफ शहर में विरोध प्रदर्शनों के बीच यहां झंडा बेचने वाले एक विक्रेता ने 100 से अधिक पाकिस्तानी झंडों की बिक्री की. 
एक मशहूर झंडा विक्रेता मुरुडकर जेंडेवाले ने शुक्रवार को 100 से अधिक पाकिस्तानी झंडे बेचे और प्रत्येक झंडे के साथ एक लाइटर मुफ्त में दिया.

अरुणाचल प्रदेश में पाकिस्तानी झंडा जलाया गया
कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार को हुए आतंकवादी हमले के विरोध में अरूणाचल प्रदेश के नागरिक समाज संगठनों ने शुक्रवार को यहां पाकिस्तानी झंडा जलाया. संगठन के सदस्य यहां एनएच45 पर एकत्र हुये और पाकिस्तान विरोधी नारे लगाए और उसका झंडा जलाया. उन्होंने शहीद जवानों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की और कैंडल मार्च निकाला.