मुख्य सचिव से मारपीट के मामले में AAP विधायक प्रकाश जारवाल हिरासत में

मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मुख्यमंत्री आवास पर हुई मारपीट के मामले में दिल्ली पुलिस ने आम आदमी पार्टी के विधायक प्रकाश जरवाल को हिरासत में लिया है. 

मुख्य सचिव से मारपीट के मामले में AAP विधायक प्रकाश जारवाल हिरासत में
विधायक प्रकाश जरवाल को मुख्य सचिव के साथ मारपीट के आरोप में गिरफ्तार किया है

नई दिल्ली : सोमवार की रात दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर हुई मारपीट के मामले में दिल्ली पुलिस ने आम आदमी पार्टी के विधायक प्रकाश जरवाल को हिरासत में लिया है. इस घटना में एक और आरोपी विधायक गिरफ्तारी के पुलिस छापेमारी कर रही है. पुलिस ने बताया कि मुख्य सचिव से दुर्व्यवहार के मामले में देवली से आम आदमी पार्टी के विधायक प्रकाश जारवाल को हिरासत में लिया गया है. पुलिस जारवाल से पूछताछ कर रही है. एक अन्य आरोपी विधायक अमानतुल्ला खान की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है. ओखला स्थित उनके घर के बाहर बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है. 

दो विधायकों के खिलाफ FIR
दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता दीपेंद्र पाठक ने बताया कि मुख्य सचिव की शिकायत पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज की है. इस एफआईआर में कहा गया है कि मुख्य सचिव को आधी रात को मुख्यमंत्री के घर पर बुलाया गया और मुख्यमंत्री की मौजूदगी में उनके साथ मारपीट की गई. उन्होंने बताया कि दिल्ली के मंत्री के शिकायत पर एक और एफआईआर दर्ज की गई है. इसमें कहा गया है कि दिल्ली सचिवालय की लिफ्ट के पास उन पर हमला किया गया.

सरकार को अस्थीर करने की साजिश
दिल्ली में उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इस पूरी घटना को सरकार के खिलाफ एक साजिश बताया है. उन्होंने कहा कि दिल्ली की स्थिर सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की जा रही है. आम आदमी पार्टी ने संवाददाता सम्मेलन में आरोप लगाया कि केंद्र सरकार के इशारे पर नौकरशाही केजरीवाल सरकार को गिराने की धमकी देते हुए सरकार को अस्थिर कर रही है. आप नेता आशीष खेतान ने कहा कि अधिकारी खुलेआम केजरीवाल सरकार को गिराने की धमकी दे रहे हैं.

मुख्य सचिव विवाद केजरीवाल सरकार को अस्थिर करने की सोची-समझी साज़िश : AAP

अधिकारियों ने दिल्ली सरकार किया बहिष्कार
मुख्य सचिव के साथ मारपीट के खिलाफ अधिकारियों की तीन एसोसिएशनों आईएएस (इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस), डीएएनआईसीएस (दिल्ली अंडमान एंड निकोबार आईलैंड्स सिविल सर्विस) तथा डीएसएसएस (दिल्ली सबऑर्डिनेट सर्विसेज सलेक्शन बोर्ड) ने एक बैठक में एक प्रस्ताव पारित किया कि वे आम आदमी पार्टी के मंत्रियों के साथ लिखित में संवाद बनाए रखेंगे ताकि लोक सेवा आपूर्ति में कोई व्यवधान न हो.

संभागीय आयुक्त तथा आईएएस ऑफिसर्स एसोसिएशन की महासचिव मनीषा सक्सेना ने कहा ‘‘तीनों एसोसिएशनों ने मुख्यमंत्री के आवास में मुख्य सचिव पर विधायकों के कथित हमले के विरोध में दिल्ली के सभी मंत्रियों की बैठकों का बहिष्कार करने का फैसला किया है.’’