close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

आम आदमी पार्टी ने कहा,'राफेल खरीद मामले में सरकार ने दी गलत जानकारी'

आप ने राफेल सौदे में 36 हजार करोड़ रुपये का घोटाला होने का आरोप लगाया है. 

आम आदमी पार्टी ने कहा,'राफेल खरीद मामले में सरकार ने दी गलत जानकारी'
आप सांसद संजय सिंह (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: आप ने राफेल लड़ाकू विमान की खरीद मामले में केन्द्रीय रक्षा राज्य मंत्री सुभाष भामरे पर संसद में गलत जानकारी देने का आरोप लगाते हुए राफेल सौदे में 36 हजार करोड़ रुपये का घोटाला होने का आरोप लगाया है. 

आप के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने सोमवार को कहा ‘संसद में मैंने सरकार से पूछा था कि 540 करोड़ करोड़ रुपये का लडा़कू विमान 1670 करोड़ रुपये में क्यों खरीदा गया और लड़ाकू विमानों के निर्माण का अनुभव रखने वाली कंपनी एचएएल के बजाय 12 दिन पुरानी अनिल अंबनी की कंपनी को ठेका क्यों दिया गया.’

सिंह ने फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के हाल ही के बयान का हवाला देते हुए कहा कि उनके द्वारा उठाया गया सवाल सही साबित हुआ है. ओलांद ने कहा था कि भारत सरकार की सहमति से रिलायंस को इस सौदे में साझेदार बनाया गया है. सिंह ने इस सौदे में एक हजार करोड़ रुपये प्रति विमान की दर से गड़बड़ी होने का दावा करते हुए कहा कि यह स्वतंत्र भारत का अब तक का सबसे बड़ा रक्षा घोटाला है. 

उन्होंने कहा ‘गत 19 मार्च को भामरे ने राज्यसभा में बताया कि विमान की बिना उपकरणों के कीमत 1670 करोड़ रुपये है. जबकि लोकसभा में तमाम सदस्यों के इसी सवाल के जवाब में भामरे ने 18 नवंबर 2016 को बताया था कि विमान की उपकरणों के साथ कीमत 670 करोड़ रुपये है.’

सिंह ने रक्षा राज्य मंत्री भांबरे पर संसद में गलत तथ्य बताने का आरोप लगाते हुये दावा किया कि राफेल मामले में 36 हजार करोड़ रुपये की गड़बड़ी होने के कारण मंत्री भामरे ने संसद में गलत तथ्य पेश किए हैं. 

सिंह ने मीडिया रिपोर्टों के हवाले से कहा कि पांच हजार करोड़ रुपये के बैंक घोखाधड़ी मामले में वांछित गुजरात के नितिन संदेसरा के विदेश भाग जाने की आशंका जतायी गयी है. उन्होंने कहा कि वह पहले भी सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय से 50 करोड़ रुपये से अधिक राशि वाले बैंक बकायेदारों के पासपोर्ट जब्त करने की मांग कर चुके हैं लेकिन इस पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई.