close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अगवा सिख लड़की के मामले में पाकिस्तान बोल रहा झूठ पर झूठ, सोशल मीडिया पर फर्जी खबरें फैलाईं

पाकिस्तान अब अल्पसंख्यकों के लिए टॉर्चर फैक्टरी बन गया है.  

अगवा सिख लड़की के मामले में पाकिस्तान बोल रहा झूठ पर झूठ, सोशल मीडिया पर फर्जी खबरें फैलाईं

नई दिल्ली:  जब पूरे दुनिया में सिख बाबा गुरु नानक की 550वीं जयंती मना रहे हैं, ऐसे में पाकिस्तान अपनी जमीं पर सिख समुदाय को सुरक्षा नहीं दे पा रहा है. करतारपुर को लेकर पाकिस्तान का असली चेहरा सामने आ रहा है. पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदायों के खिलाफ अत्याचार हो रहे हैं.  पाकिस्तान अल्पसंख्यकों के लिए टॉर्चर फैक्टरी बन गया है.

ननकाना साबिह से सिख लड़की को अगवा कर उसका धर्मांतरण कर जबरन निकाह करवाया गया. अंतरराष्ट्रीय दबाव के बाद पाकिस्‍तान पुलिस ने लड़की को बरामद कर उसके घर भेजने और 8 लोगों को गिरफ्तार करने का दावा किया लेकिन पाकिस्तान का यह दावा झूठा है. सिख लड़की के भाई पाकिस्तान का झूठ उजागर किया है. उसका कहना है न तो उसकी बहन घर लौटी है और न ही इस मामले में कोई गिरफ्तारी हुई है. सवाल यह भी है कि अगर पाकिस्तान पुलिस ने लड़की को बरामद किया तो उसे मीडिया के सामने क्यों नहीं ला रहा.

लड़की के भाई कहना है कि उसकी बहन कहां है और किस स्थिति में है, उसे नहीं पता. उसने पीएम इमरान खान से इस मामले में ध्‍यान देने और उसे न्‍याय दिलाने की अपील की है. गौरतलब है कि 28 अगस्त को एक वीडियो वायरल किया था जिसमें दावा किया गया कि लड़की ने मर्जी से अपना धर्म बदलकर मुस्लिम लड़के के साथ निकाह किया है. 

झूठा पाकिस्‍तान, सिख लड़की का भाई बोला, 'बहन अब तक घर नहीं लौटी, ना ही कोई गिरफ्तारी हुई'

पाकिस्‍तानी आतंकी ने किया था सिख लड़की को अगवा, हाफिज सईद के संगठन से जुड़ा है किडनैपर: सूत्र

बता दें कि इससे पहले शनिवार सुबह पाकिस्‍तान की ओर से खबरें आई थीं कि मामले में आठ लोग गिरफ्तार किए गए हैं. सिख लड़की को भी उसके घर पहुंचा दिया गया है. सूत्रों के अनुसार कहा जा रहा है कि सिख लड़की को अगवा करने वाला आरोपी पाकिस्‍तानी आतंकी है. वह हाफिज सईद के आतंकी संगठन जमात-उद-दावा का सदस्‍य है. इस आतंकी का नाम मोहम्‍मद हसन बताया जा रहा है. बता दें कि इस घटना के बाद से ही पाकिस्‍तान को सिख समुदाय समेत भारत का गुस्‍सा झेलना पड़ रहा है.