'स्किल इंडिया' को कांग्रेस ने बताया BJP के लोगों को लाभ पहुंचाने वाला प्रोग्राम

2015 में स्किल इंडिया प्रोग्राम शुरू किया गया था जिसके तहत 40 करोड़ लोगों को स्किल करने का लक्ष्य रखा गया था.

'स्किल इंडिया' को कांग्रेस ने बताया BJP के लोगों को लाभ पहुंचाने वाला प्रोग्राम
फाइल फोटो

नई दिल्ली: कांग्रेस ने केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी 'स्किल इंडिया' प्रोग्राम को घोटाला करार दिया है. कांग्रेस के प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि 'स्किल इंडिया' का असली मकसद बीजेपी से जुड़े लोगों को लाभ पहुंचाना है, न कि युवाओं को रोजगार के लिए सक्षम बनाना है. कांग्रेस ने इस योजना की जांच की मांग की है. इस योजना की शुरूआत 2015 में हुई थी.

कांग्रेस प्रवक्ता सिंघवी ने कहा कि तमाम मीडिया रिपोर्ट और RTI के जरिए खुलासा हुआ है कि जब इस योजना को शुरू किया गया था तो केंद्र सरकार का मकसद था कि 40 करोड़ लोगों को इस योजना के तहत स्किल्ड बनाया जाएगा. लेकिन, बेशरम लोग इस योजना का उपयोग केवल लाभ कमाने के लिए करने लगे.

 

 

स्किल इंडिया के तहत ट्रेनिंग सेंटर खोलने वाले ज्यादातर लोग बीजेपी के हैं. लोगों को स्किल बनाने की बजाए वे इसके जरिए लाभ कमाने में जुट गए. युवा स्किल तो नहीं हो पाए, लेकिन बीजेपी के नेता और पदाधिकारी मुनाफा कमाते रहे. 

 

 

सिंघवी ने शारदा प्रसाद कमेटी का हवाला देते हुए कहा कि उनकी कमेटी ने भी मोदी सरकार की इस योजना कड़ी आलोचना की थी. कमेटी ने कहा था कि 40 करोड़ युवाओं को स्किल करने का लक्ष्य असंभव जैसा है. इस लक्ष्य को पूरा नहीं किया जा सकता है.

 

 

कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा था कि मोदी सरकार पिछले दो सालों से अपने लक्ष्य से काफी छूट रही है. जितने युवाओं को स्किल करने का लक्ष्य रखा जा रहा है, उसके बहुत कम युवा स्किल हो रहे हैं और उन्हें रोजगार मिल रहा है.