UAE: PM मोदी जिस शहजादे से मिले, उनकी शादी इसलिए गिनीज वर्ल्‍ड बुक में है दर्ज

प्रिंस नहयान की शादी का समारोह सात दिन तक चला था. इस दौरान 20 हजार मेहमानों के ठहरने के लिए खासतौर पर एक स्‍टेडियम का निर्माण किया गया था. यह भी कहा जाता है कि उनकी दुल्‍हन को तोहफे के रूप में जो गहने मिले थे, उनको 20 ऊंटों पर लादकर लाया गया था.

UAE: PM मोदी जिस शहजादे से मिले, उनकी शादी इसलिए गिनीज वर्ल्‍ड बुक में है दर्ज
पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात करते अबू धाबी के क्राउन प्रिंस मोहम्‍मद बिन जायेद अल नहयान

पीएम नरेंद्र मोदी ने संयुक्‍त अरब अमीरात (यूएई) दौरे के दौरान वहां के क्राउन प्रिंस मोहम्‍मद बिन जायेद अल नहयान के साथ पांच समझौतों पर हस्‍ताक्षर किया. अबू धाबी में बनने जा रहे पहले हिंदू मंदिर की आधारशिला रखने के बाद अपने संबोधन में उन्‍होंने प्रिंस नहयान का खासतौर पर जिक्र किया. दरअसल हिंदू मंदिर के लिए सरकार की तरफ से जमीन देने में प्रिंस नहयान के प्रयासों की अहम भूमिका मानी जाती है. पीएम मोदी के 2015 में पहले यूएई दौरे के दौरान प्रिंस नहयान ने ही हिंदू मंदिर के निर्माण का ऐलान किया था. प्रिंस नहयान को भारत का करीबी माना जाता है. वह पिछले साल के गणतंत्र दिवस के मुख्‍य अतिथि भी थे. वह पिछले तीन वर्षों में दो बार भारत आ चुके हैं. खाड़ी मुल्‍कों में प्रिंस नहयान इसलिए भी खासे चर्चित रहे हैं क्‍योंकि उनकी शादी दुनिया की अब तक की 10 सबसे महंगी शादियों में शुमार मानी जाती है.  

मोहम्‍मद बिन जायेद अल नहयान   
प्रिंस नहयान (56) यूएई की सशस्‍त्र सेनाओं के डिप्‍टी सुप्रीम कमांडर हैं. वह अबू धाबी के क्राउन प्रिंस हैं. यूएई के संस्‍थापक राष्‍ट्रपति शेख जायेद बिन सुल्‍तान अल नहयान के तीसरे पुत्र हैं. अबू धाबी, संयुक्‍त अरब अमीरात(यूएई) की राजधानी है. प्रिंस नहयान को MbZ के नाम से भी जाना जाता है. इस दौर में यूएई की सक्रिय विदेश नीति के पीछे उनकी ही सक्रिय भूमिका है. अरब के सक्रिय इस्‍लामिक आंदोलनों के खिलाफ अभियान चलाने वाले नेता के रूप में देखा जाता है. 2003 में पिता ने इनको डिप्‍टी क्राउन प्रिंस बनाया था. उसके बाद से ही प्रिंस नहयान का राजनीतिक कद बढ़ता गया. 2004 पिता की मौत के बाद अबू धाबी के क्राउन प्रिंस बने और जनवरी 2005 में यूएई की सशस्‍त्र सेनाओं के सर्वोच्‍च कमांडर बने. सेना में उनकी रैंक जनरल की है.

मुस्लिम शेखों के देश में क्‍यों बन रहा पहला हिंदू मंदिर?

शाही शादी में खर्च हुए सात अरब रुपये
1981 में प्रिंस नहयान पहली बार अंतरराष्‍ट्रीय सुर्खियों में आए. दरअसल अपने निकाह की वजह से वह अंतरराष्‍ट्रीय मीडिया की सुर्खियां बनें. उनका निकाह शहजादी सलामा बिंत हमदान से हुआ था. शादी में तकरीबन 100 मिलियन डॉलर (तकरीबन सात अरब रुपये) खर्च हुए थे. इतनी खर्चीली शादी होने के कारण यह शादी इतिहास की सबसे महंगी शादियों में शुमार है.

पीएम मोदी ने की अबूधाबी के शहजादे से मुलाकात, भारत-यूएई के बीच 5 समझौतों पर करार

शादी के लिए बनाया गया स्‍टेडियम  
प्रिंस नहयान की शादी का समारोह सात दिन तक चला था. इस दौरान 20 हजार मेहमानों के ठहरने के लिए खासतौर पर एक स्‍टेडियम का निर्माण किया गया था. शादी के दौरान शहजादे ने शाही परंपरा के अनुरूप दान के रूप में अपनी जनता को उपहार दिए थे. यह भी कहा जाता है कि उनकी दुल्‍हन को तोहफे के रूप में जो गहने मिले थे, उनको 20 ऊंटों पर लादकर लाया गया था. सर्वाधिक महंगी शादियों की सूची में शामिल होने के चलते यह गिनीज बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकॉर्ड में इसे दर्ज किया गया.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.