close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: PM मोदी से जवाब मांगते वक्‍त कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी के बिगड़े बोल

कांग्रेस के लोकसभा में नेता अधीर रंजन चौधरी बड़ी गड़बड़ कर बैठे. वैसे भी अधीर रंजन चौधरी अक्‍सर अपनी विचित्र बयानबाजी के कारण सुर्खियों में रहते हैं.

VIDEO: PM मोदी से जवाब मांगते वक्‍त कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी के बिगड़े बोल

नई दिल्‍ली: कश्‍मीर की मध्‍यस्‍थता के मसले पर अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के विवादित बयान के बाद कांग्रेस लोकसभा में इस मांग पर अड़ गई है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस मसले पर खुद ही बयान दें. कांग्रेस के नेताओं ने कहा कि वह इस मसले पर 'हॉर्स माउथ' से बयान सुनना चाहते हैं. हालांकि इस चक्‍कर में कांग्रेस के लोकसभा में नेता अधीर रंजन चौधरी बड़ी गड़बड़ कर बैठे. वैसे भी अधीर रंजन चौधरी अक्‍सर अपनी विचित्र बयानबाजी के कारण सुर्खियों में रहते हैं.

उन्‍होंने कहा कि कश्‍मीर के मसले पर हमारे मन में संदेह है क्‍योंकि ना ही ट्रंप और ना ही पीएम मोदी ने इसका अब तक खंडन किया है. उन्‍होंने 'हॉर्स माउथ' का हिंदीकरण करते हुए कह दिया कि हम सीधे घोड़े के मुख से यह सुनना चाहते हैं. हॉर्स माउथ (The Horse Mouth) दरअसल अंग्रेजी का मुहावरा है. जब किसी व्‍यक्ति से सीधे कोई बात सुनने की अपेक्षा होती है तो इसको अंग्रेजी में अक्‍सर इस्‍तेमाल किया जाता है. अंग्रेजी के इसी मुहावरे के हिंदीकरण में अधीर रंजन चौधरी गलती कर बैठे.

उन्‍होंने कहा, ''शिमला एग्रीमेंट के मुताबिक कश्मीर मसला बाइलेटरल है .इसमें तीसरा हस्तक्षेप नहीं माना जायेगा .अमेरिका के प्रेजीडेंट ने इमरान खान से जो कहा है वो गलत भी हो सकता है लेकिन अभी तक ना ट्रंप ने गलत कहा, ना हमारे प्रधानमंत्री मोदी साहब ने गलत कहा...हम घोड़े के मुंह से बयान सुनना चाहते हैं. इसमें क्या गलती है. हमारी आवाज़ सत्तापक्ष दबाना चाहती है.''

कांग्रेस का हंगामा
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दावे पर लोकसभा में लगातार दूसरे दिन बुधवार को भी हंगामा बना रहा. ट्रंप ने दावा किया था कि हाल ही में जापान के ओसाका में हुए जी-20 सम्मेलन में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कश्मीर मुद्दे पर उनसे मध्यस्थता करने का आग्रह किया था. प्रश्न काल शुरू होते ही सदन में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने यह मुद्दा उठाते हुए कहा, "यह मुद्दा प्रधानमंत्री से व्यक्तिगत रूप से गहराई से जुड़ा हुआ है."

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने उन्हें बीच में रोकते हुए कहा कि इस विषय पर बोलने के लिए एक मौका पहले ही दिया जा चुका है. इसके बाद कांग्रेस सांसदों ने सरकार और मोदी के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी. वे 'प्राइम मिनिस्टर जवाब दो' और 'तानाशाही खत्म करो' के नारे लगाने लगे. हंगामे को खत्म करने का प्रयास करते हुए बिड़ला ने चौधरी को बोलने का मौका दिया.

चौधरी ने फिर कहा, "ट्रंप के बयान के बाद, देश में प्रत्येक व्यक्ति चर्चा कर रहा है कि प्रधानमंत्री ने इस मुद्दे पर क्या कहा. लेकिन प्रधानमंत्री कुछ नहीं बोल रहे हैं. हम जानना चाहते हैं कि प्रधानमंत्री और ट्रंप के बीच क्या बातचीत हुई." शोरगुल के बीच लोकसभा अध्यक्ष ने प्रश्नकाल जारी रखा. इसके बाद विपक्षी सांसद उनके मंच के निकट जाकर 'प्रधानमंत्री हाय हाय' के नारे लगाने लगे.

संसदीय कार्यमंत्री ने विपक्ष को प्रश्नकाल खत्म होने देने का आग्रह किया. उन्होंने कहा, "यह मुद्दा इसके बाद भी उठाया जा सकता है. हमारे रक्षा मंत्री इस मुद्दे पर बोलेंगे." लेकिन प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस सांसद नारेबाजी करते रहे. कांग्रेस ने मंगलवार को भी प्रधानमंत्री से स्पष्टीकरण मांगा था, जिसके बाद विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने ट्रंप के दावे को स्पष्ट रूप से खारिज कर दिया था और संसद के दोनों सदनों में स्पष्टीकरण दिया था कि मोदी ने अमेरिका के राष्ट्रपति से ऐसा कोई आग्रह नहीं किया.