'निर्बला' वाले बयान पर अधीर रंजन ने मांगी माफी, कहा- निर्मला सीतारमण मेरी बहन जैसी

सदन में निर्मला को 'निर्बला' कहने की वजह से कांग्रेस नेता की आलोचना हो रही थी.

'निर्बला' वाले बयान पर अधीर रंजन ने मांगी माफी, कहा- निर्मला सीतारमण मेरी बहन जैसी
कांग्रेस नेता अधीर रंजन ने वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण से माफी मांग ली. (फोटो: ANI)

नई दिल्ली: लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी (Adhir Ranjan Chowdhury) ने बुधवार को वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) से माफी मांग ली है. सदन में निर्मला को 'निर्बला' कहने की वजह से उनकी आलोचना हो रही थी.

अधीर रंजन चौधरी ने कहा, ''सदन में चर्चा के दौरान मैंने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को निर्बला के रूप में संबोधित किया था. निर्मला जी मेरी बहन की तरह हैं और मैं उनके भाई जैसा हूं. अगर मेरे शब्दों से उन्हें दुख पहुंचा है तो मैं माफी मांगता हूं.''

सोमवार को लोकसभा में जीडीपी दर सबसे कम रहने और अमेरिका-चीन ट्रेड वार पर जब वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपना पक्ष रखा तो उसके बाद अधीर रंजन ने उनको लाचार मंत्री कहा. अधीर रंजन ने कहा, ''आपके लिए सम्‍मान तो है लेकिन कभी-कभी सोचता हूं कि आपको निर्मला सीतारमण की जगह 'निर्बला' सीतारमण कहना ठीक होगा कि नहीं. आप मंत्री पद पर तो हैं लेकिन जो आपके मन में है वो कह भी पाती हैं या नहीं.''

पूनम महाजन का अधीर को जवाब
लोकसभा में भारतीय जनता युवा मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष और सांसद पूनम महाजन ने भी कांग्रेस नेता अधीर रंजन पर जमकर हमला बोला था. पूनम ने मंगलवार को सदन में कहा था, ''निर्बल तो आप हैं दादा (कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी) की एक ही परिवार की महिला के लिए आप खड़े हैं और उसकी के सम्मान व सुरक्षा के लिए लड़ रहे हैं.''

पीएम मोदी पर साध चुके निशाना
इससे पहले एनआरसी के मुद्दे पर रविवार को कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने पीएम मोदी और अमित शाह पर निशाना साधा था. उन्‍होंने कहा, 'एनआरसी नाम लेकर एक ऐसा माहौल पैदा हो गया कि जो हमारे देश के वास्तविक नागरिक हैं वे भी सोचने लगे हैं कि हमारा क्या होगा. आम जन सारे कागजात लेकर नहीं बैठे रहते, गरीब, आदिवासी, पिछड़े वर्ग के लोगों को रोटी की चिंता रहती है, कागजात के बारे में सोचने का उनके पास समय नहीं है.' कांग्रेस नेता ने कहा, ''वो दिखाना चाहते हैं कि मुसलमान को भगाएंगे. मुसलमान अगर इस देश का नागरिक है तो भागेगा क्यों, हिंदुस्तान सबके लिए है हिंदू के लिए है, मुसलमान के लिए है, लेकिन वो दिखाना चाहते हैं कि हम हिंदुओं को यहां रहने देना चाहते हैं, मुसलमानों को भगा देंगे.