अन्‍नाद्रमुक ने बनवाई थी जयललि‍ता की प्रत‍िमा, लेकि‍न बन गई शश‍िकला जैसी, बदलकर दूसरी लगाई

कुछ महीने पहले लगाई गई एक प्रतिमा को लेकर आलोचना हो रही थी, क्योंकि उसका पूर्व पार्टी सुप्रीमो से मिलान नहीं हो रहा था.

अन्‍नाद्रमुक ने बनवाई थी जयललि‍ता की प्रत‍िमा, लेकि‍न बन गई शश‍िकला जैसी, बदलकर दूसरी लगाई

चेन्नई : तमिलनाडु के सत्तारुढ़ दल अन्नाद्रमुक ने यहां बुधवार को अपने पार्टी मुख्यालय में पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता की नई प्रतिमा का अनावरण किया. कुछ महीने पहले लगाई गई एक प्रतिमा को लेकर आलोचना हो रही थी, क्योंकि उसका पूर्व पार्टी सुप्रीमो से मिलान नहीं हो रहा था. पार्टी के बयान के अनुसार अन्नाद्रमुक संयोजक ओ पनीरसेल्वम और संयुक्त संयोजक के पलानीस्वामी ने पार्टी सांसदों एवं राज्य के मंत्रियों समेत वरिष्ठ नेताओं की उपस्थिति में जयललिता की नयी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पलानीस्वामी और उपमुख्यमंत्री पनीरसेल्वम भी इस मौके पर मौजूद थे. इन दोनों नेताओं ने मूर्तिकार राजकुमार उदयार का अभिनंदन भी किया जिन्होंने इस प्रतिमा का डिजायन तैयार किया है.


जयलल‍िता की पुरानी स्‍टेच्‍यु (बाएं), ज‍िस पर व‍िवाद हो रहा था. इसे नई प्रत‍िमा से बदला गया.

जयललिता की आदमकद प्रतिमा का 24 फरवरी को उनकी 70 वीं जयंती पर पलानीस्वामी और पनीरसेल्वम द्वारा अनावरण किया गया था. लेकिन इस प्रतिमा का जयललिता से बहुत कम मिलान होने के कारण उसकी आलोचना हुई और पार्टी ने नयी प्रतिमा लगाने का फैसला किया.कहा जा रहा है क‍ि पहले वाली प्रतिमा जयललि‍ता की बजाए उनकी सहयोगी शशि‍कला की तरह द‍िखती थी. जब ऐसी आलोचनाओं ने जोर पकड़ा तब अन्‍नाद्रमुक ने इस प्रत‍िमा को बदलने का नि‍र्णय लि‍या. 

जयललिता की नई प्रतिमा कांसे से बनाई गई है. इसका वजन 800 किग्रा है. ये पहले वाली प्रतिमा से कुछ बड़ी है. इसे पार्टी के फाउंडर और तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री एमजी रामचंद्रन के पास स्थापित किया गया है.  INPUT : BHASHA