close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पायलट ने यात्रियों की जान लगाई दांव पर, विमान को लगवाया 10,000 फुट का गोता

पायलट ‘ब्रेक हॉट’ चेतावनी के बाद 35,000 फुट से 25,000 फुट पर आ गया था. विमान का ब्रेक ठंडा करने के लिए विमान को नीचे लाया गया.

पायलट ने यात्रियों की जान लगाई दांव पर, विमान को लगवाया 10,000 फुट का गोता
बताया जा रहा है कि विमान का ब्रेक ठंडा करने के लिए 10 हजार फुट का गोता लगाया गया था

नई दिल्ली : पायलट की लापरवाही से जेट एयरवेज की फ्लाइट में यात्रियों के नाक-कान से निकले खून का मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा है कि अब एयर इंडिया से पायलट की लापरवाही का मामला सामने आया है. इस पायलट ने तो एक कदम आगे बढ़ते हुए हवा में ही फ्लाइट का अचानक ही 10,000 फुट का गोता लगा दिया, जिससे उसमें सवार सैकड़ों लोगों की जीवन संकट में पड़ गया.

यह पायलट की उड़ान सुरक्षा विभाग की जांच के घेरे में आ गया है. कुवैत से गोवा की उड़ान के दौरान पायलट विमान को अचानक 10,000 फुट नीचे ले आया था. यह घटना 15 सितंबर को हुई थी. ए-320 विमान की यह उड़ान कुवैत से गोवा जा रही थी. 

जानकारी के मुताबिक, पायलट ‘ब्रेक हॉट’ चेतावनी के बाद 35,000 फुट से 25,000 फुट पर आ गया था. विमान का ब्रेक ठंडा करने के लिए विमान को नीचे लाया गया था, लेकिन 35,000 फुट पर तापमान काफी कम होता है और संभवत: यह चेतावनी सही नहीं थी. कुछ समय बाद विमान फिर से 35,000 फुट की ऊंचाई पर पहुंच गया.

एयरलाइन सूत्र ने कहा कि घटना के बारे में और जानकारी पाने के लिये उड़ान सुरक्षा विभाग ने पायलट को एक अक्तूबर को बुलाया है. पायलट ने खुद ही एयरलाइन को इस घटना की सूचना दी. एयर इंडिया ने एक प्रवक्ता ने जांच लंबित रहने तक घटना पर किसी तरह की टिप्पणी से इनकार किया.

जेट की फ्लाइट में यात्रियों की नाक-कान से निकला खून
बता दें कि बीते गुरुवार को जेट एयरवेज की फ्लाइट 9 डब्ल्यू 697 जयपुर से मुंबई के लिए जा रही थी. इसमें 166 यात्री सवार थे. उड़ान के कुछ समय बाद ही 30 यात्रियों ने नाक-कान से खून बहने और सिरदर्द की शिकायत की. जांच में जेट एयरवेज ने इस मामले में क्रू की गलती मानी और कहा कि क्रू हवा का दबाव कंट्रोल करने वाला ब्लीड स्विच ऑन करना भूल गया था, जिसकी वजह से ऐसा हुआ.
 
(इनपुट भाषा से)