एयरसेल-मैक्सिस मामला: चिदंबरम और बेटे ने नकारा सीबीआई-ईडी के असहयोग का आरोप

अदालत ने सीबीआई और ईडी द्वारा दर्ज दोनों मामलों में दोनों आरोपियों को गिरफ्तारी से छूट 26 नवंबर तक बढा दी. 

एयरसेल-मैक्सिस मामला: चिदंबरम और बेटे ने नकारा सीबीआई-ईडी के असहयोग का आरोप
फाइल फोटो

नई दिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति ने दिल्ली की एक अदालत में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के इन आरोपों से इंकार किया कि वे एयरसेल-मैक्सिस मामले में जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं. पिता-पुत्र ने जांच एजेंसियों के जवाब पर अपने प्रत्युत्तर में यह बात कही. सीबीआई और ईडी ने चिदंबरम और बेटे की अग्रिम जमानत याचिकाओं पर अपने जवाब में आरोप लगाया था कि वे जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं. इन दोनों ने विशेष न्यायाधीश ओपी सैनी के सामने प्रत्युत्तर दायर किया.

हिरासत में लेकर पूछताछ की जरूरत नहीं- चिदंबरम के वकील
चिदंबरम और कार्ति ने वकीलों पीके दुबे और अर्शदीप सिंह के जरिये दायर अपने प्रत्युत्तरों में कहा कि सीबीआई और ईडी के आरोपों में दम नहीं है और उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ की कोई जरूरत नहीं है. अदालत ने सीबीआई और ईडी द्वारा दर्ज दोनों मामलों में दोनों आरोपियों को गिरफ्तारी से छूट 26 नवंबर तक बढा दी. अपने जवाब में दोनों एजेंसियों ने कहा था कि चिदंबरम और कार्ति को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ की जरूरत है क्योंकि वे सवालों के सीधे सीधे जवाब नहीं दे रहे हैं और जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं.

चिदंबरम ने मई में दायर की थी अग्रिम जमानत याचिका
पी चिदंबरम ने इस साल मई में अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी. गिरफ्तारी से उन्हें मिले संरक्षण को समय-समय पर बढ़ाया जा चुका है. वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और उनका बेटा 3500 करोड़ रुपये के एयरसेल-मैक्सिस सौदे और 305 करोड़ रुपये के आईएनएस मीडिया मामले में एजेंसियों के जांच के दायरे में हैं.

(इनपुट भाषा से)