यूपी उपचुनाव के नतीजों पर बोले अखिलेश- 'फूल मुरझा गया, कांग्रेस से रिश्ते अच्छे हैं, बने रहेंगे'

उपचुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) की शानदार जीत पर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) पर जुबानी हमला किया है.

यूपी उपचुनाव के नतीजों पर बोले अखिलेश- 'फूल मुरझा गया, कांग्रेस से रिश्ते अच्छे हैं, बने रहेंगे'
यूपी उपचुनाव में सपा की जीत के बाद अखिलेश यादव ने बीजेपी को निशाने पर लिया है. तस्वीर साभार: ANI

नई दिल्ली: उपचुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) की शानदार जीत पर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) पर जुबानी हमला किया है. अखिलेश यादव ने गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा, 'फूलपुर में फूल मुरझा गया, घमंड टूटा, उम्मीद है अब भाषा बदलेगी.' अखिलेश यादव ने यह बात सीएम योगी आदित्यनाथ के उस बयान पर कही जिसमें उन्होंने सपा और बसपा की तुलना सांप-छछूंदर से की थी.

गोरखपुर और फूलपुर दोनों सीटों पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस के भी प्रत्याशी उतारे जाने के सवाल पर अखिलेश यादव ने कहा, 'कांग्रेस से संबंध हमारे अच्छे हैं और अच्छे बने रहेंगे.' मालूम हो कि पिछले साल विधानसभा चुनाव में अखिलेश यादव ने कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था, लेकिन इस गठबंधन को जनता ने नकार दिया था. हालांकि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी कई मौकों पर कह चुके हैं कि सपा और उनकी विचारधारा में समानता है. दोनों सांप्रदायिक शक्तियों से लड़ने के लिए एक साथ बने रहेंगे.

ये भी पढ़ें: कांशीराम और मुलायम की मुलाकात के 26 बरस बाद जब मायावती ने 'टीपू' के लिए भेजी मर्सिडीज...

पत्रकारों से बातचीते में अखिलेश यादव ने कहा, 'ये देश के तमाम लोग जो गरीब हैं, मजबूर हैं, किसान हैं, दलित हैं, जो अल्पसंख्यक हैं, ये उनकी जीत है और बहुत बड़ी जीत है.'

मालूम हो कि उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को तगड़ा झटका देते हुए समाजवादी पार्टी (सपा) ने बुधवार को फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा सीटों पर हुए उप चुनाव में जीत दर्ज की. गोरखपुर सीट उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और फूलपुर सीट उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के सांसद पद से इस्तीफा देने के बाद खाली हुई थी.

ये भी पढ़ें: सपा-बसपा गठबंधन की संभावना पर रामगोपाल बोले- 'इंतजार करिये'

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने अभी तक की अपनी कट्टर प्रतिद्वंद्वी समाजवादी पार्टी को उप चुनाव में समर्थन का ऐलान किया था और इसका असर बहुत गहरे तक दिखा. माना जा रहा है कि सपा इसके बदले में राज्यसभा चुनाव में बसपा की मदद करेगी.

उपचुनाव में जीत के बाद सपा प्रमुख अखिलेश यादव, बसपा प्रमुख मायावती से मिलने उनके आवास पर गए. दोनों के बीच लगभग एक घंटे तक बातचीत हुई. सपा और बसपा के शीर्ष नेताओं के बीच 1995 के गेस्टहाउस कांड (जिसमें कुछ सपा सदस्यों द्वारा मायावती पर हमला किया गया था) के 23 साल बाद यह आमने-सामने की मुलाकात हुई है.