कश्‍मीर में पाकिस्‍तान करवा सकता है बड़ा आतंकी हमला, सेना और एयरफोर्स अलर्ट पर

सूत्रों के अनुसार, जम्‍मू-कश्‍मीर और खासकर घाटी में हालात को खराब करने के लिए पाकिस्‍तान और उसके टुकड़ों पर पलने वाले आतंकी गुट बड़े स्‍तर पर गड़बड़ी फैला सकते हैं.

कश्‍मीर में पाकिस्‍तान करवा सकता है बड़ा आतंकी हमला, सेना और एयरफोर्स अलर्ट पर
अनुच्‍छेद 370 में बदलाव के बाद घाटी में कड़ी सुरक्षा व्‍यवस्‍था है. फोटो: रॉयटर्स

श्रीनगर: जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाने और अनुच्‍छेद 370 को बदलने के बाद पाकिस्‍तान बौखला गया है. वह लगातार भारत के खिलाफ आतंकी युद्ध छेड़ने की धमकी दे रहा है. ऐसे में खुफिया सूत्रों ने भारतीय सेना, वायुसेना और जम्‍मू कश्‍मीर में मौजूद तमाम सुरक्षाबलों को हाई अलर्ट पर रहने को कहा है.

सूत्रों के अनुसार, जम्‍मू-कश्‍मीर और खासकर घाटी में हालात को खराब करने के लिए पाकिस्‍तान और उसके टुकड़ों पर पलने वाले आतंकी गुट बड़े स्‍तर पर गड़बड़ी फैला सकते हैं. इसके लिए तमाम सुरक्षाबलों को अलर्ट पर रहने को कहा गया है. सूत्रों के अनुसार, पाकिस्‍तान के आतंकी संगठन बड़े आतंकी हमले को भी अंजाम दे सकते हैं.

जम्‍मू कश्‍मीर के मुख्‍य सचिव बोले- राज्‍य में जान-माल का कोई नुकसान नहीं, स्‍वास्‍थ्‍य-बिजली-पानी सेवाएं बहाल

बता दें कि अनुच्‍छेद 370 के खंड बदलने और 35ए को हटाने के बाद अब जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख में भी वही नियम कानून लागू होंगे. बदले हुए हालात में अब पाकिस्‍तान को लगता है कि कश्‍मीर का मुद्दा अब बेमानी हो जाएगा. ऐसे में वह इस मुद्दे पर लगातार भारत को घेरने का प्रयास कर रहा है. उसकी इन नापाक कोशि‍शों में चीन एक बार फि‍र उसकी मदद कर रहा है, लेकिन अब तक उन्‍हें कोई बड़ी कामयाबी नहीं मिली है.

प्रशासन को उम्‍मीद जल्‍द सामान्‍य होंगे हालात
जम्मू-कश्मीर प्रशासन को उम्‍मीद है कि घाटी में जल्‍द हालात सामान्‍य होंगे. प्रशासन की ओर से कहा गया, शुक्रवार रात से चरणबद्ध तरीके से प्रतिबंधों को हटाया जाएगा. मुख्य सचिव बी.वी.आर. सुब्रह्मण्यम ने शुक्रवार को मीडिया से कहा कि कश्मीर घाटी में स्कूल सप्ताहांत बाद खुलेंगे, जबकि सरकारी कार्यालयों में शुक्रवार से कामकाज शुरू हो गया.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.