शिवसेना का बड़ा ऐलान- सरकार गठन को लेकर कल दोपहर 12 बजे तस्‍वीर होगी साफ

महाराष्‍ट्र में शिवसेना के एनसीपी और कांग्रेस के साथ सरकार बनाने को लेकर चल रहे मंथन के बीच पार्टी प्रवक्‍ता संजय राउत ने कहा कि सरकार गठन को लेकर पिछले 10-15 दिनों से जारी अड़चनें दूर कर ली गई हैं.

शिवसेना का बड़ा ऐलान- सरकार गठन को लेकर कल दोपहर 12 बजे तस्‍वीर होगी साफ

नई दिल्‍ली: महाराष्ट्र (Maharashtra Assembly Elections 2019) में शिवसेना के एनसीपी और कांग्रेस के साथ सरकार बनाने को लेकर चल रहे मंथन के बीच पार्टी प्रवक्‍ता संजय राउत ने कहा कि सरकार गठन को लेकर पिछले 10-15 दिनों से जारी अड़चनें दूर कर ली गई हैं. आपको कल दोपहर 12 बजे पता चल जाएगा कि सभी बाधाएं दूर हो गई हैं. कल दोपहर तक पूरी तस्‍वीर साफ हो जाएगी. सरकार के गठन का काम 5-6 दिन में पूरा कर लिया जाएगा और लोकप्रिय एवं स्‍थायी सरकार का गठन दिसंबर से पहले हो जाएगा. इसकी प्रक्रिया चल रही है.

महाराष्‍ट्र में जारी सियासी गतिरोध के बीच राज्‍य के किसानों के मुद्दे को लेकर एनसीपी नेता शरद पवार आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने वाले हैं. महाराष्‍ट्र के सियासी हालात के मद्देनजर इस मुलाकात को काफी अहम माना जा रहा है. इस पर प्रतिक्रिया देते हुए संजय राउत ने कहा, ''क्‍या प्रधानमंत्री से अगर कोई नेता मिलता है तो खिचड़ी ही पकती है क्‍या? प्रधानमंत्री तो पूरे देश के होते हैं. महाराष्‍ट्र के किसान समस्‍याओं का सामना कर रहे हैं. शरद पवार और उद्धव ठाकरे हमेशा किसानों के बारे में सोचते हैं.''

कांग्रेस नहीं पवार के कारण सरकार गठन में हो रही देरी, CM के चेहरे पर भी अटकी बात!

LIVE TV

अपनी बात के विस्‍तार में इसके साथ ही संजय राउत ने जोड़ा, ''यदि किसानों के मुद्दे को लेकर उद्धव ठाकरे दिल्‍ली आते हैं और सभी सांसद प्रधानमंत्री से मिलते हैं तो क्‍या खिचड़ी पकती है? संसद के भीतर या बाहर कोई भी प्रधानमंत्री से मिल सकता है. कृषि के क्षेत्र में शरद पवार का जाना-माना नाम है. वह राज्‍य की स्थिति को बखूबी समझते हैं.''

संजय राउत को याद आए अटल जी, लिखा 'आओ फिर से दिया जलाएं...'

उन्‍होंने कहा कि हमने भी शरद पवार से कहा है कि वह प्रधानमंत्री को राज्‍य के किसानों की समस्‍या से अवगत कराएं. महाराष्‍ट्र से ताल्‍लुक रखने वाले सभी दलों के सांसद प्रधानमंत्री से मिलेंगे और किसानों की स्थिति के बारे में अवगत कराएंगे. हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि केंद्र की तरफ से किसानों को अधिकाधिक सहायता मिले.

उल्‍लेखनीय है कि महाराष्‍ट्र में सरकार गठन को लेकर आज दिल्ली में कांग्रेस और एनसीपी के नेताओं की बैठक हो सकती है. बीजेपी वेट एंड वाच की भूमिका में अब भी है. बीजेपी देख रही है कि महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर कांग्रेस-एनसीपी-शिवसेना की फाइनल सहमति हुई है या नहीं, उसके बाद बीजेपी अगला कदम उठायेगी. मुंबई में हुए महापौर चुनाव में शिवसेना के खिलाफ अपना उम्मीद्वार न उतारकर बीजेपी ने शिवसेना से बातचीत के दरवाजे अब भी खोल रखे हैं.