close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अमरनाथ यात्रियों पर बरसा कुदरत का कहर, अब तक यात्रा में 10श्रद्धालुओं की हुई मौत

मृतकों में एक महिला दिल्‍ली से है, जबकि दो श्रद्धालु पटना (बिहार) और एक श्रद्धालु आंध्र प्रदेश से है.

अमरनाथ यात्रियों पर बरसा कुदरत का कहर, अब तक यात्रा में 10श्रद्धालुओं की हुई मौत
लैंडस्‍लाडिंग में फंसे श्रद्धालुओं को बचाने के लिए आईटीबीपी के जवान पांच घंटे तक जद्दोजहद करते रहे.

नई दिल्‍ली: अमरनाथ यात्रा पर गए श्रद्धालुओं पर कुदरत इस दिनों पर जमकर कहर बरपा रही है. मंगलवार रात्रि कुदरत का कहर एक बार फिर बाबा बर्फानी के भक्‍तों पर जमकर बरपा. दरअसल, रेलपत्री से पवित्र गुफा पर निकले श्रद्धालुओं बरारीमार्ग की तरफ बढ़ ही रहे थे, तभी पहाड़ों में भूस्‍खलन शुरू हो गया. 

इस दौरान, बेहद संकरे से रास्‍ते से गुजर रहे श्रद्धालुओं के काफिले पर पहाड़ से पत्‍थरों की बरसात होने लगी. इस घटना में दर्जनों श्रद्धालुओं गंभीर रूप से घायल हो गए. मौके पर मौजूद सीआरपीएफ और आईटीबीपी की टीम ने बड़ी जद्दोजहद के बाद कुदरत की पत्‍थरबाजी का शिकार हुए श्रद्धालुओं को मौके से निकाला गया. 

आईटीबीपी और सीआरपीएफ के जवानों ने घायलों को सुरक्षाबलों के कैंप तक पहुंचाया. जहां पर आंशिक रूप से चुटिहिल हुए श्रद्धालुओं को प्राथमिक चिकित्‍सा मुहैया कराई गई. वहीं कुदरत की इस पत्‍थरबाजी में गंभीर रूप से घायल हुए श्रद्धालुओं को क्रिटिकल केयर एंबुलेंस से श्रीनगर के लिए रवाना कर दिया गया.

Amrnath yatri injurd
श्रद्धालुओं के घायल होने की सूचना मिलते ही आईटीबीपी के जवानों की एक दर्जन से अधिक टीमों को मौके के लिए रवाना कर दिया गया.

जहां इलाज के दौरान 4 श्रद्धालुओं की मृत्‍यु हो गई. मृतकों की पहचान ज्‍योति शर्मा, एमएस शैलेंद्र, अशोक महतो और सीमा कुर्ती के रूप में हुई है. अमरनाथ यात्रा से जुड़े वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार मृतकों में एक महिला दिल्‍ली से है, जबकि दो श्रद्धालु पटना (बिहार) और एक श्रद्धालु आंध्र प्रदेश से है.

आईटीबीपी के वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार  रेलपत्री से बरारीमार्ग के बीच मंगलवार शाम करीब 7:30 बजे हुए भूस्‍खलन के बाद पहाड़ से पत्‍थरों के बरसने का सिलसिला शुरू हो गया था. जिस समय पहाड़ों से पत्‍थर गिरना शुरू हुए उस समय वहां से श्रद्धालुओं का एक जत्‍था गुजर रहा था.

पत्‍थरों की चपेट में आकर श्रद्धालुओं के घायल होने की सूचना मिलते ही आईटीबीपी के जवानों की एक दर्जन से अधिक टीमों को मौके के लिए रवाना कर दिया गया. रात्रि करीब 8 बजे रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन शुरू कर दिया. उन्‍होंने बताया कि यह रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन करीब पांच घंटे तक चला.