28 जून से शुरू होगी अमरनाथ यात्रा, एक मार्च से कराई जा सकेगी एडवांस बुकिंग

श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड (एसएएसबी) ने  बताया, “ बोर्ड ने फैसला लिया है कि 60 दिवसीय यात्रा हिंदू कैलेंडर के अनुसार 28 जून से ज्येष्ठ पूर्णिमा के शुभ मौके पर शुरू होगी और अब तक की परंपरा के अनुसार श्रावन पूर्णिमा (रक्षा बंधन) के दिन 26 अगस्त को समाप्त होगी.” 

28 जून से शुरू होगी अमरनाथ यात्रा, एक मार्च से कराई जा सकेगी एडवांस बुकिंग
(फाइल फोटो)

जम्मू: दक्षिण कश्मीर में स्थित पवित्र अमरनाथ गुफा की इस साल की 60 दिन की यात्रा 28 जून से शुरू होगी. श्राइन बोर्ड ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी. पिछले साल यह यात्रा 40 दिन की थी. श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड (एसएएसबी) ने मंगलवार (09 जनवरी) को बताया, “ बोर्ड ने फैसला लिया है कि 60 दिवसीय यात्रा हिंदू कैलेंडर के अनुसार 28 जून से ज्येष्ठ पूर्णिमा के शुभ मौके पर शुरू होगी और अब तक की परंपरा के अनुसार श्रावन पूर्णिमा (रक्षा बंधन) के दिन 26 अगस्त को समाप्त होगी.” जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल और एसएएसबी के अध्यक्ष एन एन वोहरा ने दिल्ली में आयोजित श्राइन बोर्ड की 34 वीं बैठक में इस आश्य का निर्णय लिया.

राज्यपाल वोहरा ने राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) द्वारा श्री अमरनाथजी यात्रा को लेकर दिए गए निर्देशों को लागू करने पर विचार करने और यात्रा के संबंध में तैयारियों से जुड़ी जरूरी बातों पर विचार के लिए बुलाई गई इस बैठक की अध्यक्षता की. बैठक में विचार-विमर्श करने के बाद बोर्ड ने एनजीटी के पिछले साल के 13 और 14 दिसंबर के निर्देशों पर समीक्षा याचिका दायर करने का निर्णय लिया है.

एनजीटी ने 13 दिसंबर 2017 को दक्षिणी कश्मीर हिमालय में स्थित अमरनाथ गुफा को ‘साइलेंस जोन’ घोषित करते हुए प्रवेश सीमा से आगे धार्मिक पूजा-पाठ पर रोक लगा दी थी. हालांकि इस फैसले के विरोध के बाद 14 दिसंबर को अधिकरण ने अपने फैसले को स्पष्ट करते हुए कहा था कि उन्होंने गुफा के भीतर मंत्रों के जाप और भजन गाने पर रोक नहीं लगाई है.

अधिकरण ने कहा था कि उन्होंने सिर्फ इस बात पर प्रतिबंध लगाया है कि प्रत्येक श्रद्धालु को ‘अमरनाथ जी महा शिवलिंग’ के समक्ष शांति बनाए रखना चाहिए. गुफा में यह शिवलिंग प्राकृतिक रूप से बर्फ से बनता है. प्रवक्ता ने बताया कि बोर्ड ने यह फैसला भी किया कि दोनो यात्रा मार्गों से हर दिन प्रत्येक से 7500 यात्रियों को गुफा के दर्शन के लिए अग्रिम पंजीकरण की इजाजत दी जाएगी. इनमें हेलीकाप्टर से यात्रा करने वाले तीर्थयात्री शामिल नहीं होंगे. जनसंपर्क अधिकारी ने बताया कि श्रद्धालु एक मार्च से इस यात्रा के लिए एडवांस बुकिंग कर सकेंगे.