आम्रपाली केसः SC ने होमबॉयर्स को दी बड़ी राहत, बैंकों को दिए ये निर्देश

आम्रपाली होमबॉयर्स के लोन को रिस्ट्रक्चर किया जाए और बकाया राशि को बैंक रिलीज करें.

आम्रपाली केसः SC ने होमबॉयर्स को दी बड़ी राहत, बैंकों को दिए ये निर्देश
सुप्रीम कोर्ट | फाइल फोटो

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने बुधवार को आम्रपाली (Amrapali) मामले में अपना फैसला सुनाया. इस फैसले में होमबॉयर्स, बिल्डर्स और रियल स्टेट सेक्टर को बड़ी राहत मिली. सुप्रीम कोर्ट ने बैंकों और वित्तीय संस्थानों से कहा है कि आम्रपाली होमबॉयर्स के लोन को रिस्ट्रक्चर किया जाए और लोन की बकाया राशि को बैंक रिलीज करें. जो राशि अब तक जारी नहीं की गई है, उस धनराशि का उपयोग अधूरे प्रोजेक्ट का निर्माण पूरा करने के लिए किया जाए.

कोर्ट ने एफएआर यानी फ्लोए एरिया रेशियो को लेकर निर्देश जारी किए. इसके साथ ही कोर्ट ने बैंक और घर खरीदारों के लिए निर्देश जारी किए हैं. घर खरीदारों के होम लोन पर ब्याज की दर को लेकर भी सुप्रीम कोर्ट ने आदेश जारी किया.  इस मामले में अगली सुनवाई अगले हफ्ते होगी.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अभी तक इस्तेमाल नहीं हुआ एफएआर 2.75 पर होगा न कि 3.5 पर. अगर एफएआर में कोई वृद्धि होती है तो यह नोएडा और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरणों द्वारा तय किया जाएगा.

जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा कि हमें ऑफिसरों ने बताया कई प्रोजेक्ट अधूरे पड़े हैं और उसको ठीक से देखना चाहिए. सुप्रीम कोर्ट ने नोएडा अथॉरिटी को निर्देश दिया है कि बिल्डरों द्वारा देर से ब्याज चुकाए जाने पर अत्यधिक ब्याज दर न लगाएं. ये ब्याज दर आठ प्रतिशत से अधिक नहीं हो सकती है. कोर्ट ने रिसीवर के माध्यम से शेष एफएआर की बिक्री की अनुमति दी.

ये भी पढ़ें- बदलाव: TT की जगह रेलवे पुलिस करेगी टिकट चेकिंग, मोबाइल पर आएगी रिजर्वेशन डिटेल

इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया है कि नेशनल बिल्डिंग्स कंस्ट्रक्शन कॉर्पोरेशन लिमिटेड आम्रापाली केस के मामले में फंड के जमा करवाने और अधूरा प्रोजेक्ट पूरा करने के लिए काम करे. बैंक एनपीए घोषित हो चुके होमबॉयर्स के लोन की बकाया राशि को रिलीज कर सकते हैं. इसके लिए आरबीआई बैंकों को अनुमति दे.

सुप्रीम कोर्ट ने फैसले में ये भी कहा कि नोएडा और ग्रेटर नोएडा के घर खरीदारों की स्थिति जस की तस है क्योंकि प्रोजेक्ट के अधूरे पड़े काम में कोई प्रगति नहीं हुई है. कोर्ट ने नोएडा अथॉरिटी से पूछा है कि वो बैंकों और वित्तीय सहायता देने को राजी अन्य संस्थानों को ये तो बता दें कि उनको काम पूरा करने को एक बार में कितनी धनराशि की जरूरत है.

ये वीडियो भी देखें-