एंटीलिया केस: एनकाउंटर स्‍पेशलिस्‍ट प्रमोद शर्मा का क्‍या रोल था? सचिन वझे का था-बड़े 'इवेंट' का प्‍लान

एंटीलिया मामले में गिरफ्तार सचिन वझे मुंबई का नया एनकाउंटर स्पेशलिस्ट बनना चाहता था. इसीलिए उसने उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के सामने विस्फोटकों से लदी गाड़ी खड़ी की. यह खुलासा NIA ने किया है.

एंटीलिया केस: एनकाउंटर स्‍पेशलिस्‍ट प्रमोद शर्मा का क्‍या रोल था? सचिन वझे का था-बड़े 'इवेंट' का प्‍लान
पकड़ा आरोपी सचिन वझे और एंटीलिया के बाहर खड़ी स्कोर्पियो (फाइल फोटो)

मुंबई: उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया (Antilia Case) के बाहर विस्फोटक से लदी स्कोर्पियो गाड़ी खड़ी करने के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. पकड़े गए आरोपी सचिन वझे ने NIA को बताया कि इस पूरे प्रकरण के पीछे उसका मकसद मुंबई का खतरनाक एनकाउंटर स्पेशलिस्ट बनना था. उसने यह भी बताया कि इस स्कार्पियो कार प्रकरण के बाद 'Second Big Event' प्लान किया था.

प्रदीप शर्मा के रोल की हो रही है जांच

NIA इस प्रकरण में मुंबई के पूर्व एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा (Pradeep Sharm) के रोल की भी जांच कर रही है. NIA के सूत्रों के मुताबिक Killers को Hire करने से लेकर जिलेटिन छड़ों को रखे जाने, साजिश रचने और लॉजिस्टिक मुहैया कराने के मामले में प्रदीप शर्मा से पूछताछ की जा रही है. सचिन वझे 3 मार्च को सचिन वज़े अंधेरी गया था. NIA अब ये जानने में जुटी है कि क्या सचिन वझे (Sachin Waje) अंधेरी में प्रदीप शर्मा से मिलने गया था. 

परमबीर सिंह के बयान दर्ज किए गए

बताते चलें कि पुलिस की नौकरी से रिटायरमेंट के बाद प्रदीप शर्मा शिवसेना में शामिल हो चुके हैं. उधर NIA ने 100 करोड़ रुपये की उगाही मामले में मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह का बयान दर्ज किया है. उनका यह बयान एक गवाह के तौर पर दर्ज किया गया है न कि संदिग्ध के रूप में. अब NIA इस उगाही मामले के सारे तारों को आपस में जोड़ने वाली कड़ियों को ढूंढने की कोशिश कर रही है. 

ये भी पढ़ें- Sachin Vaze Case: मर्सिडीज के बाद Land Cruiser Prado कार सीज, दो अन्य लक्जरी गाड़ियों की तलाश

सचिन वझे को 14 दिनों के लिए जेल भेजा गया

उधर मुंबई की NIA कोर्ट ने गिरफ्तार किए गए सचिन वझे  (Sachin Waje) को 14 दिनों की जुडिशल कस्टडी में जेल भेज दिया है. इससे पहले वझे की मेडिकल जांच में अस्पताल ने यह रिपोर्ट दी थी कि उसे किसी तरह के कॉर्डियो ट्रीटमेंट की जरूरत नहीं है. NIA कोर्ट ने सचिन वझे के वकीलों को उसका लेटर लीक होने के मामले में डांट भी लगाई. कोर्ट ने कहा कि CRPC के तहत प्रोसेस होता है. कोर्ट ने उसी प्रोसेस के तहत लेटर लिख कर लाने के लिए कहा था, फिर ये मीडिया में लीक कैसे हो गया.

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.