भारत में निवेश कर सकेंगी दुनियाभर की कंपनियां, सरकार ने बनाया ये बड़ा प्लान

 वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने 21 लाख करोड़ के पैकेज पर कांग्रेस के सवाल उठाए जाने पर निशाना भी साधा. 

भारत में निवेश कर सकेंगी दुनियाभर की कंपनियां, सरकार ने बनाया ये बड़ा प्लान
फाइल फोटो

नई दिल्ली: कोरोना और लॉकडाउन के बीच वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने केंद्र सरकार की जमकर तारीफ की है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत कोरोना (Corona) के खिलाफ सफलता से लड़ाई लड़ रहा है. इसके अलावा कोरोना के संकट के कारण प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था की रफ्तार तेज करने के लिए भी सरकार ने खाका तैयार कर लिया है. 

अनुराग ठाकुर ने आईएएनएस को दिए इंटरव्यू में कहा कि मोदी सरकार की ओर हाल में किए गए आर्थिक सुधारों से दुनियाभर की कंपनियां निवेश के लिए आकर्षित होंगी. सरकार ग्रुप ऑफ सेक्रेटरीज की व्यवस्था के जरिए दुनियाभर की कंपनियों को निवेश करने के लिए आकर्षित करने में जुटी है. दुनिया की ग्लोबल सप्लाई चेन में भारत को बड़ी ताकत बनाने के लिए भी मोदी सरकार ने कई अहम कदम उठाए हैं. इससे आयात कम होगा और निर्यात बढ़ेगा. जिससे देश आत्मनिर्भर हो सकेगा. वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने 21 लाख करोड़ के पैकेज पर कांग्रेस के सवाल उठाए जाने पर निशाना भी साधा. 

हिमाचल प्रदेश की हमीपुर सीट से लगातार चार बार के सांसद अनुराग ठाकुर का राजनीतिक कद पिछले 12 वर्षो में तेजी से बढ़ा है. हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके पिता, प्रेम कुमार धूमल की परंपरागत हमीरपुर सीट से 2008 का उपचुनाव जीतकर पहली बार संसद में पहुंचने के बाद अनुराग ठाकुर ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. 

ये भी पढ़ें- देश में संक्रमण के मामले 1.4 लाख के पार, एक मई की तुलना में चार गुना हुए केस

24 अक्टूबर 1974 को हमीरपुर के समीरपुर में जन्मे 45 वर्षीय अनुराग ठाकुर भाजपा के ऐसे नेता हैं, जो पार्टी की युवा इकाई यानी भारतीय जनता युवा मोर्चा के लगातार तीन बार राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके हैं. कभी प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेलने से लेकर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड(बीसीसीआई) जैसी संस्था के अध्यक्ष तक का सफर तय कर चुके अनुराग ठाकुर सियासी पिच पर लगातार सफल पारी खेल रहे हैं. 

केंद्र सरकार के आर्थिक पैकेज को कांग्रेस नाकाफी बता रही है, इस सवाल पर वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा, 'जो कल तक कहते थे कि जीडीपी का पांच प्रतिशत पैकेज होना चाहिए, जब 10 प्रतिशत सरकार ने किया तो उसमें भी आलोचना करते हैं. हमने लगभग 21 लाख करोड़ रुपए का पैकेज दिया है और सुनिश्चित करेंगे कि जनता के सभी वर्गों को एक-एक पाई का लाभ हो. दुनियाभर के देशों ने जिस तरह से जीडीपी के प्रतिशत के हिसाब से पैकेज को नापा है, उसी रूप में भारत ने भी उसका नापा है. हम दुनिया से अपने आप को अलग नहीं देख रहे हैं.'

वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा, '41 करोड़ लोगों के खातों में अब तक 52,608 करोड़ पहुंचाए जा चुके हैं. फसल की खरीद के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य में 74 हजार करोड़ रुपए अलग से किसानों को दिया गया है. 86 हजार करोड़ के ऋण किसानों को पिछले दो महीनों में दिए जा चुके हैं और अब सभी 4.25 लाख करोड़ के ऋण की ब्याज किस्त में छह महीने की छूट दी है.'

अनुराग ठाकुर ने बताया कि तीन लाख करोड़ का बिजनेस और एमएसएमई के लिए वर्किंग कैपिटल की सुविधा भी देने के साथ उसकी शत-प्रतिशत गारंटी भारत सरकार दे रही है.

अनुराग ठाकुर ने कहा, "हम यह सुनिश्चित करेंगे कि एक-एक पैसा जरूरतमंदों तक पहुंचे. एनबीएफसी के लिए भी हमने घोषणाएं कीं. मनरेगा के लिए एक लाख करोड़ रुपए के ऐतिहासिक बजट का प्रावधान सरकार ने किया है. इससे मनरेगा में तीन सौ करोड़ रोजगार के दिन पैदा होंगे. घर गए प्रवासी मजदूरों को गांवों में ही रोजगार के अवसर मिल पाएंगे. 80 करोड़ भारतीयों को हमने मुफ्त में अनाज दिया और स्वास्थ्य क्षेत्र में कदम उठाए जिससे लोगों को लाभ मिलेगा.'

कोरोना वायरस के कारण बुरी तरह प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था की रफ्तार कैसे तेज होगी, आखिर सरकार का रोडमैप क्या है? इसपर अनुराग ठाकुर ने बताया कि अर्थव्यवस्था के लिए नए रास्तों पर काम चल रहा है. हथियारों का आयात कम करना, लिस्ट ऑफ वेपन्स बनाना और हिंदुस्तान में उसकी मैन्युफैक्चरिंग करने की दिशा में काम चल रहा है, जिससे रोजगार के साथ आत्मनिर्भर होने के अवसर मिलेंगे. दुनिया की ग्लोबल सप्लाई चेन में भारत को बड़ी ताकत बनाने के लिए ऐसे ढेर सारे कदम उठाए गए हैं. इससे हमारे निर्यात को भी बढ़ावा मिलेगा. 

वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने सरकार की ओर से हालिया आर्थिक सुधारों का हवाला दिया. उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए कई नए सुधार किए गए हैं. नए सेक्टर खोलने के लिए चाहें कोयला एवं मिनरल, खनन की बात हो या बॉक्साइट और कोयला की नीलामी, ये आयात कम करेगा और हमारे भारतीय उद्योग को बढ़ावा देगा. उसी तरह से एसेंसियल कमोडिटी एक्ट और एपीएमसी एक्ट में बदलाव से किसानों को जहां जंजीरों से मुक्ति मिलेगी, वहीं उनकी कमाई भी बढ़ेगी. एक नया दौर किसानों के लिए शुरू होगा. एक लाख करोड़ कृषि आधारभूत ढांचे के लिए घोषित किया गया. 

अनुराग ठाकुर ने बताया कि मछली पकड़ने के लिए आधारभूत ढांचा तैयार करने के लिए 20 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया. जिससे भारत का एक्सपोर्ट दोगुना होकर एक लाख करोड़ तक पहुंचेगा. 

उन्होंने कहा कि किसान,बागवान, उद्ममी, व्यापारी, हर भारतीय को बैंक की किस्तें भरने में छह महीने की छूट दी है. उसको भी वह टर्म लोन में तब्दील कर सकते हैं. 

कोरोना संकट के कारण चीन से निकलने वालीं मल्टीनेशनल कंपनियों को भारत में लाने के सवाल पर अनुराग ठाकुर ने कहा, 'दुनिया भर की कंपनियों को आकर्षित करने की दिशा में सरकार काम कर रही है. भारत में दुनियाभर की कंपनियां निवेश करें, इसके लिए ग्रुप ऑफ सेक्रेटरीज की एक कमेटी बनाई जा रही है, जो इन्हें निवेश में मदद करेगी. हर विभाग में एक प्रोडक्ट डेवलपमेंट सेल होगा जो इनकी मदद करेगा और किस-किस क्षेत्र में आगे बढ़ सकते है, किस प्रोडक्ट को बढ़ावा दिया जा सकता है, जिससे निवेश बढ़े, उसको लेकर राज्यों से लगाातर ग्रुप ऑफ सेक्रेटरीज बातचीत करेंगे ताकि कम समय में अनुमति मिले और उद्योग शुरू हो सकें.'

अनुराग ठाकुर ने कहा कि भारत को एक अट्रैक्टिव इन्वेस्टमेंट डेस्टिनेशन बनाने के लिए हमने कारपोरेट टैक्स में भारी कटौती सितंबर 2019 में की थी, जिसमे मात्र 15 प्रतिशत कारपोरेट टैक्स रखा. यह दुनियाभर में सबसे आकर्षित टैक्स रेट है. इसके अलावा हमने उन सार्वजनिक उपक्रमों का निजीकरण करने की बात कही है जो स्ट्रेटजिक सेक्टर में नहीं होंगे.

प्रधानमंत्री मोदी के आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत गांवों के लोगों को आत्मनिर्भर बनाकर पलायन रोकने के मुद्दे पर अनुराग ठाकुर ने कहा, 'मेरा मानना है कि हर राज्य को प्रयास करना चाहिए कि माइग्रेशन कैसे कम हो. 'वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट' योजना इसमें अहम भूमिका निभा सकती है. इसके अलावा, हमने जो रेहड़ी, ठेला लगाने वाले लोगों को क्रेडिट की सुविधा दी है कि उनको भी बैंक से पैसा मिल सकेगा ताकि वे अपने लिए रोजगार के अवसर खड़े कर सकें. इससे भी उनको बल मिलेगा.'

अनुराग ठाकुर ने उदाहरण देते हुए कहा, 'जैसे कश्मीर में केसर हो, आंध्र प्रदेश की मिर्च हो या बिहार का मखाना हो, नागपुर का संतरा हो, ऐसे अलग-अलग क्लस्टर बनाने की तैयारी है. इससे शहरों में दबाव भी कम होगा और वहां पर आय के साधन भी उपलब्ध होंगे. उत्पादन बढ़ने पर निर्यात के अवसर भी उपलब्ध होंगे.'

देश में कोरोना के खिलाफ लड़ाई कितनी सफल है, इस सवाल पर वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर कहते हैं, 'आज भारत के उठाए गए कदमों की प्रशंसा पूरी दुनिया में हो रही है. दो गज की दूरी, मास्क पहन कर और स्वच्छ रहकर इस लड़ाई से को हम जीतकर दिखाएंगे. हमारे कोविड वारियर्स ने बहुत बड़ा काम किया है. देश के हर व्यक्ति ने इस लड़ाई में अपना पूरा सहयोग दिया.'

उन्होंने कहा, 'दुनिया के सबसे ज्यादा कोविड-19 केस वाले 15 देशों की कुल जनसंख्या भारत के बराबर है, परंतु इन 15 दिनों में कुल कोविड-19 पॉजिटिव केस 34 गुना ज्यादा और मृतकों की संख्या 83 गुना ज्यादा है. यह आंकड़े भारत के अच्छे प्रदर्शन का उल्लेख है.'

LIVE TV- 

 

वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर का युवाओं के बीच काफी ग्लैमर है. युवाओं के लिए संदेश देते हुए उन्होंने कहा, 'ये मत देखिए कि कोविड-19 में केवल 60 साल से ज्यादा वाले व्यक्ति की मृत्यु दर ज्यादा है. यह कम उम्र वालों को भी जकड़ लेता है. अपनी रोग प्रतिरोधक शक्ति ठीक रखें. दो गज की दूरी बनाएं रखें, मुंह को ढक कर रखें हाथ लगातार धोते रहें.'

अनुराग ठाकुर ने अपने गृह राज्य हिमाचल प्रदेश की सरकार की सराहना करते हुए कहा कि वहां कोरोना के खिलाफ सफलता से जंग चल रही है. अनुराग ठाकुर अपने संसदीय क्षेत्र हमीपुर की जनता के लिए भी राहत कार्यों का संचालन लगातार कर रहे हैं.