अर्नब गोस्वामी ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा, बॉम्बे HC के आदेश को दी चुनौती

अर्नब गोस्वामी ने बॉम्बे हाई कोर्ट (Bombay High Court) के उस आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है, जिसमें उन्हें 2018 में आत्महत्या के मामले में अंतरिम जमानत देने से इनकार कर दिया था.

अर्नब गोस्वामी ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा, बॉम्बे HC के आदेश को दी चुनौती
फाइल फोटो.

नई दिल्लीः रिपब्लिक टीवी (Republic TV) के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी (Arnab Goswami) ने जमानत के लिए मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) का रुख किया है. उन्होंने अपनी जमानत के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है. अर्नब गोस्वामी ने बॉम्बे हाई कोर्ट (Bombay High Court) के उस आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है, जिसमें उन्हें 2018 में आत्महत्या के मामले में अंतरिम जमानत देने से इनकार कर दिया था. गोस्वामी और दो अन्य पर कथित तौर पर 2018 में एक इंटीरियर डिजाइनर और उसकी मां को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप है. 

बॉम्बे HC ने कहा, बेल के लिए निचली अदालत जाएं
बॉम्बे हाई कोर्ट ने एक दिन पहले सोमवार को अर्नब गोस्वामी को अंतरिम जमानत देने से इनकार करते हुए कहा था कि वो बेल के लिए निचली अदालत में जाएं. न्यायमूर्ति एसएस शिंदे और न्यायमूर्ति एमएस कर्णिक की खंडपीठ ने गोस्वामी और दो अन्य आरोपियों फिरोज शेख और नीतीश सारदा की अंतरिम जमानत याचिका खारिज करते हुए कहा था कि ‘मौजूदा मामले में उच्च न्यायालय द्वारा असाधारण अधिकार क्षेत्र के प्रयोग किए जाने का कोई मामला नहीं बनता है.’ याचिका खारिज होने के चलते गोस्वामी को अब तालोजा जेल में ही रहना पड़ेगा.

ये भी पढ़ें-जेल में बंद अर्नब गोस्वामी से नहीं मिल पा रहा परिवार, राज्य के गृह मंत्री ने बताई ये वजह

4 नवंबर को अरेस्ट हुए थे अर्नब
बता दें कि गोस्वामी, शेख और सारदा को अलीबाग पुलिस ने आरोपियों की कंपनी द्वारा बकाया राशि का कथित रूप से भुगतान नहीं किए जाने के कारण 2018 में अन्वय नाइक और उनकी मां को कथित रूप से आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में चार नवंबर को गिरफ्तार किया था.  मुंबई स्थित आवास से गिरफ्तार किए जाने के बाद गोस्वामी को अलीबाग ले जाया गया जहां मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी (मजिस्ट्रेट) ने उन्हें पुलिस हिरासत में भेजने से इंकार कर दिया. अदालत ने गोस्वामी और दो अन्य आरोपियों को 18 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया. 

अर्नब ने महाराष्ट्र सरकार पर लगाए आरोप
मालूम हो कि पहले गोस्वामी को एक स्थानीय स्कूल में रखा गया था जो अलीबाग जेल के लिए अस्थाई कोविड-19 केन्द्र का काम कर रहा है. न्यायिक हिरासत में मोबाइल फोन का उपयोग करते पकड़े जाने पर गोस्वामी को रायगढ़ जिले की तलोजा जेल भेजा गया. उन्हें कोर्ट से 14 दिन की न्यायिक हिरासत दी गई थी. अर्नब ने याचिका में महाराष्ट्र सरकार पर उन्हें परेशान करने और उनके चैनल को टारगेट करना का आरोप लगाया था. 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.