चीन सीमा पर पकड़ा गया Pak Spy, पहले दुबई में बेचता था बर्गर, फिर करने लगा पोर्टर का काम

प्रदेश के पुलिस महानिदेशक एस बी के सिंह ने बताया कि वह सेना में किबिथु और दिचु सीमा चौकी पर पोर्टर का काम करता था. ये दोनों सीमा चौकी वास्तविक नियंत्रण रेखा पर स्थित हैं.

चीन सीमा पर पकड़ा गया Pak Spy, पहले दुबई में बेचता था बर्गर, फिर करने लगा पोर्टर का काम
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

ईटानगर : अरुणाचल प्रदेश में भारत-चीन सीमा के निकट अंजाव जिले में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के एक संदिग्ध जासूस को गिरफ्तार किया गया है. बुधवार को सेना के सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक, आरोपी की पहचान निर्मल राय के रूप में की गई है. वह असम के तिनसुकिया जिले के सदिया का रहने वाला है .

6 जनवरी को सेना के जवानों ने किया था गिरफ्तार
प्रदेश के पुलिस महानिदेशक एस बी के सिंह ने बताया कि वह सेना में किबिथु और दिचु सीमा चौकी पर पोर्टर का काम करता था. ये दोनों सीमा चौकी वास्तविक नियंत्रण रेखा पर स्थित हैं. राज्य पुलिस प्रमुख ने कहा कि सेना के जवानों ने उसे 6 जनवरी को गिरफ्तार किया और एक दिन बाद उसे अरुणाचल प्रदेश पुलिस के हवाले कर दिया .

2 साल दुबई में किया बर्गर बेचने का काम
उन्होने बताया, ‘‘राय नेपाली समुदाय से है. किबिथु आने से पहले वह 2016 से 2018 तक दुबई में एक बर्गर की दुकान पर काम कर चुका है .’’ सिंह ने बताया कि इस मामले में विस्तृत जानकारी उससे पूछताछ के बाद ही मिल सकेगी . सेना के सूत्रों ने बताया कि राय के संदिग्ध व्यवहार के कारण पिछले एक महीने से उस पर नजर रखी जा रही थी .

यह भी पढ़ें : 'भारतीय कार्यक्रम हमारी संस्कृति को पहुंचाते हैं नुकसान, इनको दिखाने की इजाजत नहीं देंगे'- PAK के चीफ जस्टिस

ISI ने दुबई में दी थी ट्रेनिंग
सेना के एक अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के दुबई स्थित हैंडलरों ने संदिग्ध जासूस को वहीं प्रशिक्षण दिया होगा और उसकी भर्ती की होगी. नाम नहीं बताने की शर्त पर उन्होंने बताया कि वह किबिथु स्थित सैन्य इकाई के लोकेशन और तैनाती, हथियारों और तोपों के बारे में संवेदनशील जानकारियां बताता था. साथ ही वह वास्तविक नियंत्रण रेखा पर बुनियादी ढांचे के विकास के बारे में भी जरूरी सूचनाएं भी भेजा करता था. 

सैन्य अधिकारी ने बताया कि राय के पास से एक स्मार्ट फोन बरामद किया गया है. राय की गिरफ्तारी शासकीय गुप्त बात अधिनियम के प्रावधानों के तहत की गई है. उसके खिलाफ भारतीय दंड संहिता एवं सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धाराए भी लगाई गई हैं.

(इनपुट-भाषा)