आज गरीब की मदद करना गुनाह हो गया है, ये दौर आपातकाल से भी अधिक खतरनाक है- अरुंधति राय

नक्सलियों से मिलीभगत के आरोप में पांच लोगों की गिरफ्तारी के विरोध में अरुंधति राय ने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि आज गरीब की मदद करना अपराध हो गया है.

आज गरीब की मदद करना गुनाह हो गया है, ये दौर आपातकाल से भी अधिक खतरनाक है- अरुंधति राय
प्रेस क्लब में अरुंधति राय और अरुणा राय की प्रेस कॉन्फ्रैंस

नई दिल्ली: नक्सलियों से मिलीभगत के आरोप में पुणे पुलिस द्वारा पांच लोगों की गिरफ्तारी के विरोध में सामाजिक कार्यकर्ता और लेखक अरुंधति राय ने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि आज गरीब की मदद करना अपराध हो गया है. उन्होंने कहा कि हम एक खतरनाक दौर से गुजर रहे हैं और बांट कर राज करने के पुराने फार्मूले को एक बार फिर आजमाया जा रहा है.

उन्होंने प्रेस क्लब में पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा, 'अल्पसंख्यक होना गुनाह है. गरीब होना गुनाह है. गरीबों की मदद करना गुनाह है. आज हम एक खतरनाक दौर में रह रहे हैं. प्रधानमंत्री की लोकप्रियता घट गई है और उससे ध्यान भटकाने की कोशिश की जा रही है.' 

निजीकरण पर सवाल 
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने कहा था कि बीजेपी की जीत के बाद सभी के खाते में 15 लाख रुपये आएंगे, लेकिन सच ये है कि सरकार ने सत्ता में आने के बाद गरीबों का पैसा ही चुरा लिया. उन्होंने कहा कि जिस तरह से शैक्षणिक संस्थाओं को नष्ट किया जा रहा है, शिक्षा का जिस तरह निजीकरण किया जा रहा है, ये कुछ नहीं बल्कि शिक्षा का ब्राह्मणीकरण है.

उन्होंने कहा कि मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार करके आपने लाखों अल्पसंख्यकों को अलग-थलग कर दिया है. अब उनका ख्याल कौन रखेगा. राय ने कहा, 'पहले आदिवासियों को नक्सली कहा जाता था, अब दलित भी नक्सली हो गए हैं. ये दौर आपातकाल से भी अधिक खतरनाक है.'

संवैधानिक संकट!  
इस प्रेस कान्फ्रैंस में अरुंधति राय के अलावा अरुणा राय भी मौजूद थीं. उन्होंने पांच एक्टिविस्ट की गिरफ्तारी को संवैधानिक संकट बताया. उन्होंने कहा, 'आज बोलने की आजादी का अधिकार खतरे में है. ये उन लोगों के लिए संकेत है जो असहमति दिखाते हैं. वो 2019 से पहले एक ऐसा समाज बनाना चाहते हैं जो सवाल करने से डरता हो.' 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.