हैदराबाद: आरोपियों के एनकाउंटर पर ओवैसी ने उठाए सवाल, कहा - मैं इसके खिलाफ हूं

हैदराबाद की दिशा के साथ बर्बरता करने वाले चार आरोपियों को पुलिस ने हैदराबाद में एनकाउंटर में मार गिराया. हालांकि एनकाउंटर की सच्चाई पर कुछ लोग सवाल भी उठा रहे हैं. 

हैदराबाद: आरोपियों के एनकाउंटर पर ओवैसी ने उठाए सवाल, कहा - मैं इसके खिलाफ हूं
आरोपियों के एनकाउंटर पर एमआईएम नेता असुद्दीन ओवैसी ने कहा कि कानून के मुताबिक काम होना चाहिए.

नई दिल्ली: हैदराबाद की दिशा के साथ बर्बरता करने वाले चार आरोपियों को पुलिस ने हैदराबाद में एनकाउंटर में मार गिराया. हालांकि एनकाउंटर की सच्चाई पर कुछ लोग सवाल भी उठा रहे हैं. आरोपियों के एनकाउंटर पर एमआईएम नेता असुद्दीन ओवैसी ने कहा कि कानून के मुताबिक काम होना चाहिए. व्यक्तिगत तौर पर मैं इसे गलत मानता हूं. मानव अधिकार आयोग को इस पर संज्ञान लेना चाहिए.

ओवैसी ने कहा, "मजेस्ट्रियल इंक्वायरी के बाद ही चीजें मालूम होंगी. मेरे पास नॉलेज इन वन सीन नहीं है. NHRC ने भी इसका नोटिस लिया है. ये बात बिल्कुल सही है कि रंगा रेड्डी जिले में साहिबाराबाद पुलिस कमिश्नरेट में जो ये वाकिया हुआ है एंकाउंटर का ये पूरे एक्यूस्ड को ज्यूडिशियल कस्टडी से अपनी कस्टडी में लिया और बताया जाता है कि सुबह 4.30 बजे से 6 बजे के दर्मियान में एक खुले मैदान में हुआ काफी कोहरा भी होगा." 

उन्होंने कहा, "मैं एंकाउंटर के खिलाफ हूं. मेरा मानना ये है कि जब हमनें अजमल कसाब को जो पाकिस्तान से आकर मुंबई की सड़कों पर हम हिंदुस्तानियों का कत्ले आम किया उसको हमनें ड्यू प्रोसेस फॉलो किया इसीलिए मैं कहता हूं मैं एंकाउंटर्स के खिलाफ हूं. ये मूल्क चलेगा तो रूल ऑफ लॉ पे चलेगा. ये मूल्क चलेगा तो अदालत है पुलिस है और मैं इस ड्यू प्रोसेस को मानने वाला हूं."

थरूर, येचुरी, मेनका गांधी ने भी एनकाउंटर पर गंभीर सवाल उठाए हैं. थरूर ने कहा कि ऐसी मुठभेड़ न्याय व्यवस्था में कबूल नही हैं. मेनका गांधी ने कहा कि फिर कानून की क्या ज़रूरत है. महिला आयोग की अध्यक्ष ने कहा कि कानूनी प्रक्रिया बेहतर होती. हैदराबाद एनकाउंटर पर संसद के अंदर भी तीखी बहस देखने को मिली. लोकसभा में 2 सांसदों पर स्मृति ईरान से दुर्व्यवहार का आरोप है. हंगामे की वजह से कार्रवाई सोमवार तक स्थगित कर दी गई है.

ये भी देखें: 

क्राइम सीन रीक्रिएट करने पहुंची थी
पुलिस का कहना है कि गैंगरेप के चारों आरोपियों ने भागने की कोशिश की थी. पुलिस सुबह 3:30 बजे क्राइम सीन रीक्रिएट करने पहुंची थी. जहां दिशा का शव मिला, वहीं चारों आरोपी मारे गए. भाग रहे आरोपियों ने पत्थर फेंके, पुलिस ने गोली चलाई. आरोपी मो. आरिफ,  जोलु शिवा,जोलु नवीन, चेन्नाकेशावुलू मारे गए. 

कई जगहों पर लोग खुशियां मनाने सड़कों पर उतर
आज सुबह जब ये खबर देश के लोगों को मिली तो लगा जैसे उनके भावों को शब्द मिल गए हों....कई जगहों पर लोग खुशियां मनाने सड़कों पर उतर गए. महिलाओं ने भी कई जगहों पर जश्न मनाया...पुलिस को राखियां बांधी, पटाखे छोड़े और पुलिसवालों पर फूल बरसाए. अधिकतर राजनेताओँ ने पुलिस के इस कदम का समर्थन करते हुए कहा कि शायद ये जरूरी था.