close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सुरक्षाबलों की बड़ी कामयाबी, असम रायफल्स पर हमले का गुनहगार नगा आतंकी गिरफ्तार

जनरल मोपा National Socialist Council of Nagaland(k) यानि एनएससीएन (के) ग्रुप के युंग ऑंग धड़े का सबसे पुराना आतंकवादी है. ये ग्रुप नागालैंड में अपनी गतिविधियों को अंजाम देता है.      

सुरक्षाबलों की बड़ी कामयाबी, असम रायफल्स पर हमले का गुनहगार नगा आतंकी गिरफ्तार
सुरक्षा बल काफ़ी दिनों से मोपा की तलाश में थे. फोटो: एएनआई

नई दिल्ली: भारतीय सुरक्षा बलों को 21 जून को एक बड़ी क़ामयाबी मिली, जब उन्होंने एक बड़े नगा आतंकवादी को गिरफ्तार कर लिया. स्वयंभू मेजर जनरल यांगहांग उर्फ़ मोपा को नगालैंड में अबोई- मोन रोड पर गिरफ्तार किया गया. मेजर जनरल मोपा National Socialist Council of Nagaland(k) यानि एनएससीएन (के) ग्रुप के युंग आंग धड़े का सबसे पुराना आतंकवादी है. ये ग्रुप नागालैंड में अपनी गतिविधियों को अंजाम देता है.

सुरक्षा बल काफ़ी दिनों से मोपा की तलाश में थे. 21 जून को पक्की ख़बर मिलने पर सेना और असम राइफल्स ने घेरेबंदी की. सुबह क़रीब 11.20 पर मोपा को उसके दो साथियों के साथ पकड़़ लिया गया. मोपा को 19 मई को 40 वीं असम राइफल्स पर घात लगाकर किए गए हमले के लिए ज़िम्मेदार माना जाता है, जिसमें असम राइफल्स के दो सैनिकों की मौत हो गई थी.

राहुल का योग दिवस पर तंज, BJP हुई हमलावर, परेश रावल बोले- डॉग्स आपसे ज्यादा स्मार्ट

एनएससीएन (के) गिरोह के ख़िलाफ़ सुरक्षा बल काफ़ी  दिनों से अभियान चला रहे हैं. 4 जून 2015 में मणिपुर के चंदेल ज़िले में एनएससीएन (के) ने भारतीय सेना के एक क़ाफ़िले पर हमला किया जिसमें 18 सैनिकों की जान चली गई. 10 जून को भारतीय सेना ने भारत-म्यामांर सीमा पर बने एनएससीएन (के) के कैंम्प्स पर बड़ा हमला किया.

सूत्रों के मुताबिक भारतीय सेना की स्पेशल फोर्सेज़ के हमले में 150 से ज्यादा आतंकवादियों की जान गई थी. सितंबर में भारत ने एनएससीएन (के) को 5 साल के लिए ग़ैरक़ानूनी संगठन घोषित कर दिया. इस साल फ़रवरी में भी भारतीय सेना ने भारत-म्यामांर सीमा पर एनएससीएन (के) सहित कई दूसरे उग्रवादी गिरोहों के ख़िलाफ़ बड़ा अभियान ऑपरेशन सनशाइन चलाया था, जिसमें बड़ी तादाद में उग्रवादियों के ठिकाने तबाह किए थे.