ऑस्ट्रेलिया: जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का समर्थन, भारतीय मूल के लोगों ने निकाली रैली

जम्‍मू और कश्‍मीर से मोदी सरकार ने 5 अगस्‍त को अनुच्‍छेद 370 हटा लिया था.  

ऑस्ट्रेलिया: जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का समर्थन, भारतीय मूल के लोगों ने निकाली रैली
जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का समर्थन करते हुए ऑस्ट्रेलिया में बसे कश्मीरी पंडित.

मेलबर्न: ऑस्ट्रेलिया में रविवार को भारतीय मूल के ऑस्ट्रेलियाई नागरिक जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 (Article 370) को खत्म करने के समर्थन में मेलबर्न में जुटे. इसके बाद विक्टोरियन स्टेट पार्लियामेंट से फेडरेशन स्क्वायर तक कश्मीरी पंडितों के नेतृत्व में एक रैली का आयोजन किया गया. बता दें कि जम्‍मू और कश्‍मीर से मोदी सरकार ने 5 अगस्‍त को अनुच्‍छेद 370 हटा लिया था.

 

उधर, मोदी सरकार की ओर से अनुच्‍छेद 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्‍तान इस कदर बौखलाया हुआ है कि अब भारत के खिलाफ नई-नई साजिश रच रहा है. संयुक्‍त राष्‍ट्र से लेकर अन्‍य मंचों अंतरराष्‍ट्रीय बेइज्‍जती कराने के बाद भी पाकिस्‍तान बाज नहीं आ रहा है. गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक अब पाकिस्‍तान सोशल मीडिया के जरिये लोगों को बरगला रहा है. इसके साथ ही वह नगालैंड के उग्रवादियों तक अपनी पहुंच बना रहा है.

कश्‍मीर मुद्दे पर चीन और पाकिस्‍तान को मुंह की खानी पड़ी थी. जम्‍मू कश्‍मीर में अनुच्‍छेद 370 में परिवर्तन के मुद्दे को पाकिस्‍तान की शह पर चीन ने यूएनएससी की बैठक में उठाया था. लेकिन पाकिस्‍तान और चीन को दुनिया के किसी और मुल्‍क का समर्थन नहीं मिला. रूस समेत दूसरे देशों ने भारत का समर्थन किया.

विदेश मंत्रालय ने कहा- इस साल पाकिस्तान ने 2050 से अधिक बार किया संघर्ष विराम का उल्लंघन

वहीं, पाकिस्‍तान को अमेरिका की ओर से भी झटका मिला है. पाकिस्‍तानी पीएम इमरान खान ने संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक से पहले अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप को फोन किया. उनका मकसद ट्रंप से समर्थन मांगने का था. लेकिन डोनाल्‍ड ट्रंप की ओर से पाकिस्‍तानी पीएम इमरान खान को दो टूक जवाब मिला. डोनाल्‍ड ट्रंप ने उनसे कहा कि भारत और पाकिस्‍तान अपने द्विपक्षीय मुद्दे बातचीत से हल करें.