close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

#Ayodhyaverdict: ओवैसी पर बरसे उद्धव ठाकरे, कहा - आप सुप्रीम कोर्ट नहीं हैं

सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि आज का दिन स्वर्ण अक्षरों से लिखने वाला दिन है.

#Ayodhyaverdict: ओवैसी पर बरसे उद्धव ठाकरे, कहा - आप सुप्रीम कोर्ट नहीं हैं
ठाकरे ने यह भी कहा कि वह 24 नवंबर को अयोध्या जाएंगे.

मुंबई: अयोध्या विवाद मामले (Ayodhya case) में 70 सालों तक चली कानूनी लड़ाई और सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में 40 दिनों तक लगातार चली सुनवाई के बाद शनिवार को ऐतिहासिक फैसला आ गया. फैसला विवादित जमीन पर रामलला के हक में सुनाया गया. फैसले में कहा गया कि राम मंदिर विवादित स्थल पर बनेगा और मस्जिद निर्माण के लिए अयोध्या में पांच एकड़ जमीन अलग से दी जाएगी. अदालत ने कहा कि विवादित 02.77 एकड़ जमीन केंद्र सरकार के अधीन रहेगी. केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार को मंदिर बनाने के लिए तीन महीने में एक ट्रस्ट बनाने का निर्देश दिया गया है. 

सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि आज का दिन स्वर्ण अक्षरों से लिखने वाला दिन है. न्याय देवता को प्रणाम. इतने दिनों से राम की कहानियां सुन रहे थे, आज विवाद खत्म हुआ है. सभी समाज का धन्यवाद. आज सभी को बालासाहेब की याद आ रही होगी. उन्होंने पहले कहा था कि गर्व से कहो हम हिन्दू है. मैं आडवाणी से मिलूंगा." 

ठाकरे ने ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी को करारा जवाब देते हुए कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट नहीं है. दरअसल, ओवैसी ने फैसले पर नाखुशी जाहिर की है. उन्होंने फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट सर्वोच्च है, लेकिन अचूक नहीं है. उन्होंने अयोध्या भूमि विवाद मामले में फैसले को तथ्यों के ऊपर आस्था की एक जीत बताया. वहीं, सुन्नी वक्फ बोर्ड अयोध्या पर पुनर्विचार याचिका नहीं दाखिल करेगा. मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी फैसले पर संतुष्ट हैं.

अयोध्या फैसले पर सुन्नी वक़्फ बोर्ड के वकील ज़फरयाब जिलानी ने क्या कहा सुनें:

ठाकरे ने यह भी कहा कि वह 24 नवंबर को अयोध्या जाएंगे. उन्होंने आगे कहा, "आनंद है, सभी को होना चाहिए, इससे किसी को तकलीफ नहीं होना चहिए. शिवनेरी जहां शिवाजी का जन्म हुआ है, वहां की मिट्टी लेकर गया था. एक साल के भीतर काम हुआ, अभी शिवनेरी जाकर नमन करूंगा. जिन लोगों की उस वक्त जान गई, उन लोगों को नमन करता हूं."