Zee Rozgar Samachar

बीजेपी सांसद का दावा, ईसाई मिशनरियां तोड़ रही हैं आंबेडकर की मूर्तियां

आंबेडकर जयंती के मौके पर बलिया के बीजेपी सांसद भरत सिंह ने दावा किया की देश में आंबेडकर की मूर्तियों को ईसाई मिशनरियां तोड़ रही हैं.

बीजेपी सांसद का दावा, ईसाई मिशनरियां तोड़ रही हैं आंबेडकर की मूर्तियां
केसरिया रंग तो हिंदुओ का रंग है और आंबेडकर भी तो राम थे- भरत सिंह (फोटो- फेसबुक/Bharat Singh)
Play

बलिया: आंबेडकर जयंती के मौके पर बलिया के बीजेपी सांसद भरत सिंह ने दावा किया की देश में आंबेडकर की मूर्तियों को ईसाई मिशनरियां तोड़ रही हैं. आंबेडकर जयंती पर आयोजित कार्यक्रम के बाद मीडियाकर्मियों से बात करते हुए बीजेपी सांसद ने कहा, 'बीजेपी सरकार को बदनाम करने के लिए ईसाई मिशनरी संस्थाओं के इशारे पर पूरे देश में आंबेडकर की मूर्तियों को तोड़ा जा रहा है.' उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि मिशनरी संस्थाओं के इशारे पर इस काम के जरिए तनाव फैलाने की साजिश रची जा रही है. जो लोग मूर्तियों को तोड़ रहे हैं, उन्हें मिशनरी की तरफ से पैसे भी मिलते हैं. भरत सिंह ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के नेतृत्व में देश का आगे बढ़ना ईसाई मिशनरियों को बर्दाश्त नहीं हो पा रहा है.

सपा नेता रमाशंकर विद्यार्थी ने बीजेपी को बताया दलित विरोधी
बीजेपी सांसद के बयान पर सपा के पूर्व सांसद और राष्ट्रीय महासचिव रमाशंकर विद्यार्थी ने बीजेपी को दलित विरोधी पार्टी बताया. रमाशंकर विद्यार्थी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के कठुआ में हुए नाबालिग से रेप के मामले को भी भी बीजेपी नेता ईसाई मिशनरी की साजिश बता रहे हैं. उन्होंने कहा कि सरकार असली मुजरिमों को तो पकड़ नहीं सकती, इसलिए ऐसी घटनाओं पर बेतुका बयान दे रहे हैं. 2019 लोकसभा चुनाव के मद्देनजर पूरे देश का सियासी मौसम तेजी से बदल रहा है. बदलते सियासी मौसम में राजनीतिक पार्टियों का व्यवहार भी बदल रहा है. चुनाव के मद्देनजर सपा और बीजेपी का आंबेडकर प्रेम ऊफन रहा है.

केसरिया रंग में रंग दिया गया वाटर प्लांट
बलिया में आंबेडकर संस्थान में वाटर प्लांट को केसरिया रंग में रंगे जाने को लेकर सपा नेता ने कहा कि बीजेपी कोई भी रंग लगा ले, लेकिन 2019 चुनाव में उसे बेरंग होना ही है. बता दें,  आंबेडकर संस्थान में सांसद निधि द्वारा वाटर प्यूरीफायर का उदघाटन बीजेपी सांसद भरत सिंह ने किया. ऐसे में वाटर प्यूरीफायर से लेकर उदघाटन के पत्थर तक को केसरिया रंग में रंग दिया गया था, जबकि आंबेडकर संस्थान में सभी जगहों पर नीले रंग का प्रयोग किया गया है. केसरिया रंग को लेकर सांसद भरत सिंह ने कहा कि ये तो हिंदुओ का रंग है और आंबेडकर भी तो राम थे. आखिरकार उनके नाम के पहले भी तो राम का नाम लिखा है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.