Breaking News
  • नोएडा: सेक्‍टर 64 की एक एक्‍सपोर्ट फैक्‍ट्री में आग, फायर ब्रिगेड की 16 गाड़ियां मौके पर मौजूद
  • बडगाम: जैश आतंकियों के 6 मददगार गिरफ्तार

बवाना फैक्ट्री अग्निकांड : शवों की हालत देख डॉक्टरों की भी निकली चीख

शवों की हालात देखकर ड्यूटी पर तैनात कई डॉक्टरों की चीख तक निकल गई. हादसे में घायलों को बचाया जा सके इसके लिए डॉक्टरों ने कई को वार्ड में रेफर कर दिया गया. 

बवाना फैक्ट्री अग्निकांड : शवों की हालत देख डॉक्टरों की भी निकली चीख
बवाना में तीन फैक्ट्रियों में आग से 17 लोगों की मौत हो गई, कई गंभीर रूप से घायल हुए हैं

नई दिल्ली : शनिवार को दिल्ली के बवाना इलाके में पटाखा फैक्ट्री में हुए विस्फोट में 10 महिलाओं और 7 पुरुषों की मौत हो गई. आग बुझाने के बाद जैसे ही शवों को पास के महर्षि वाल्मीकि अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में ले जाया गया, डॉक्टर हैरान रह गए. शवों की हालात देखकर ड्यूटी पर तैनात कई डॉक्टरों की चीख तक निकल गई. हादसे में घायलों को बचाया जा सके इसके लिए डॉक्टरों ने कई को वार्ड में रेफर कर दिया गया. 

जल चुका था शवों का 95 फीसदी हिस्सा
भास्कर में छपी एक खबर के मुताबिक जब शवों को अस्पताल लेकर आया गया, तो उसे देखकर लग रहा था कि जैसे किसी ने पहले ही उनका अंतिम संस्कार कर दिया हो. ज्यादातर शवों की 95 फीसदी हिस्सा जल चुका था. खबर के मुताबिक डॉक्टरों ने कहा कि कई शवों का तो इतना भी हिस्सा नहीं बचा था कि वह देखकर पता लगा सके कि उनमें सांस बची हुई भी है या नहीं. उन्होंने कहा कि फैक्ट्री में लगी आग के कारण शव पूरी तरह से सिकुड़ गए थे, जिसे देखकर वह खुद हैरान थे कि यह इंसानों के शव हैं भी या नहीं. शवों की ऐसी हालात को देखकर ही कई डॉक्टर चीख पड़े.  

यह भी पढ़ें: बवाना अग्निकांड : कैमरा चालू था और नॉर्थ MCD की मेयर ने खोल दी अपने ही महकमे की पोल

10 मिनट में घर से बुलाए गए 15 डॉक्टर
हादसे में घायलों और मृतकों की संख्या को देखकर महर्षि वाल्मीकि अस्पताल प्रशासन को महज 10 मिनट में 15 डॉक्टरों को घर से बुलाना पड़ा. अस्पताल के सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर ने कहा कि उन्हें जिस वक्त हादसे की जानकारी मिली, उस वक्त अस्पताल परिसर में महज 6 डॉक्टर थे. जैसे-जैसे शवों को अस्पताल लेकर आया गया उन्होंने हालातों को काबू में करने के लिए एक और वार्ड खोल दिया. पहले 4 डॉक्टरों को इमरजेंसी के तौर पर बुलाया गया, लेकिन हालातों को काबू में किया जा सके इसके लिए 11 डॉक्टरों और 20 नर्सों की तैनाती की गई.  घायलों की सही समय पर इलाज मिल सके इसके लिए प्रशासनिक अधिकारियों ने बवाना के पास बीजेआरएम, एलएनजेपी अस्पतालों के इमरजेंसी वॉर्ड को भी पहले से ही अलर्ट कर दिया गया.

यह भी पढ़ें: दिल्ली: बवाना में 3 फैक्ट्रियों में भीषण आग, 10 महिलाओं समेत 17 की मौत, राष्ट्रपति-PM ने जताया दुख

नीचे बारूद, ऊपर प्लास्टिक से भड़की आग
पुलिस ने बताया कि आग पटाखा, प्लास्टिक और ऑयल फैक्ट्रियों में शनिवार दोपहर 3:30 बजे लगी थी. आग एक फैक्ट्री से दूसरी फैक्ट्री में फैलती रही. आग की सूचना मिलते ही दमकल विभाग की 12 गाड़ियों ने करीब 4 घंटे की मेहनत के बाद आग पर काबू पाया. जानकार बताते हैं कि इस फैक्टरी तथा गोदाम में 50 से अधिक लोग काम करते हैं. तीन मंजिलों में काम होता है.

यह भी पढ़ें: बवाना अग्निकांड : कैमरा चालू था और नॉर्थ MCD की मेयर ने खोल दी अपने ही महकमे की पोल

फैक्‍ट्री मालिक को गिरफ्तार किया
इस घटना के बाद सवाल उठ रहे हैं कि क्‍या फैक्‍ट्री के पास पटाखे स्‍टॉक करने का लाइसेंस था? क्‍या उसके पास फायर विभाग या अन्‍य सुरक्षा संबंधित मानक पूरा करने के लाइसेंस थे? इस घटना के बाद दिल्‍ली पुलिस ने फैक्‍ट्री मालिक को गिरफ्तार कर लिया. विशेष आयुक्‍त एसबीके सिंह ने कहा कि इस बाबत 285ए और 304 का मुकदमा दर्ज किया जाएगा.