टैटू बनवाने वाले हो जाएं सावधान, दिल का दौरा दे सकता है आपका पसंदीदा Tattoo

अगर आप भी अपना पसंदीदा टैटू बनवाने जा रहे हैं तो ये खबर ज़रूर पढ़ लें. 

टैटू बनवाने वाले हो जाएं सावधान, दिल का दौरा दे सकता है आपका पसंदीदा Tattoo
प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्लीः अगर आप भी अपना पसंदीदा टैटू बनवाने जा रहे हैं तो ये खबर ज़रूर पड़ लें, अब  तक अपने सुना होगा कि टैटू बनवाने से त्वचा से जुड़ी बीमारियां पैदा होती है. मामूली अलर्जी से लेकर स्किन कैंसर तक का कारण आपके शरीर पर बना टैटू हो सकता है लेकिन आपकी त्वचा के साथ साथ आपके दिल के लिए भी खतरनाक साबित हो सकता है टैटू. 

हार्ट अटैक का खतरा बढ़ा सकता टैटू का शौक
टैटू का शौक आपके लिए हार्ट अटैक का खतरा बढ़ा सकता है, इस बात का खुलासा जर्नल ऑफ एप्लाइड फिजियोलॉजी में छपी एक रिसर्च में हुआ है. रिसर्च के मुताबिक त्वचा में टैटू होने से शरीर के पसीने को रोकने की क्षमता  कम हो जाती है जिससे शरीर का तापमान बढ़ जाता है. तापमान बढ़ने से हाइपो थरमिया और हीट स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है.

अमेरिका की सेंट्रल मिस्ससौरी यूनिवर्सिटी ने किया स्टडी
अमेरिका की सेंट्रल मिस्ससौरी यूनिवर्सिटी में हुए इस अध्ययन में ऐसे लोगों पर रिसर्च की गई जिनके हाथों में कम से कम 5.6 वर्ग का टैटू था. चुने हुए लोगों में पसीना पैदा करने लिए परफ्यूजन सूट पहनाया गया जिससे उनके शरीर का तापमान 120 डिग्री फैरनहाइट तक पहुँच सके. इसके बाद सामान्य स्किन और टैटू वाली स्किन पर अलग अलग रिसर्च की गई. इसके बाद लेज़र तकनीक के जरिये स्किन में ब्लड सर्क्युलेशन चेक किया गया जिसमें ये सामने आया कि टैटू वाली स्किन पर तापमान मेंटेन करना मुश्किल होता है. पसीना कम होने की वजह से शरीर मे तापमान बढ़ता है जिससे हीट स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है.

 छोटे टैटू बनवाने से होती हैं स्किन से जुड़ी समस्याएं
मैक्स अस्पताल में कार्डियोलॉजी डिपार्टमेंट में एसोसिएट डायरेक्टर डॉ नीरज कुमार के मुताबिक आमतौर पर छोटे टैटू बनवाने से स्किन से जुड़ी कुछ समस्याएं देखने को मिलती हैं जैसे एलर्जी, इंफेक्‍शन आदि लेकिन जब लोग शरीर के बड़े हिस्से में टैटू बनवाते हैं तो इसका असर हार्ट पर देखने को मिल सकता है. अगर किसी के हार्ट में कोई वाल्व लगा है या कोई कॉम्प्लिकेशन है तो इंफेक्शन दिल तक पहुँच सकता है. ज़्यादा बड़े टैटू बनवाने से उस जगह की स्किन में मौजूद स्वेट ग्लैंड्स ब्लॉक हो जाते हैं. ऐसे में हैपरथरमिया का खतरा बढ़ सकता है. शरीर का तापमान अगर 40 डिग्री सेल्सियस से ज़्यादा हो जाए तो इससे हीट स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है.

VIDEO

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.