close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

प. बंगाल में दुर्गा पूजा के मौके पर BJP यूं करेगी NRC के मुद्दे पर बात, दूर करेगी सारी आशंका

बीजेपी इस साल दुर्गा पूजा पंडालों में किताबों के स्टॉल के जरिए NRC के बारे में प्रचार करेगी

प. बंगाल में दुर्गा पूजा के मौके पर BJP यूं करेगी NRC के मुद्दे पर बात, दूर करेगी सारी आशंका
पश्चिम बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष दिलीप घोष ने इस मुद्दे पर मीडिया के समझ एक प्रेस वार्ता में अपनी बात रखी थी

अंजन रॉय/ के. टी. एल्फी: पश्चिम बंगाल की राजनीति में एनआरसी के मुद्दे ने एक बार फिर राजनीतिक सरगर्मियां पैदा कर दी हैं. बंगाल में बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस ने NRC के मुद्दे को काफी तूल दे दिया है जिस वजह से राजनीतिक माहौल में उथल-पुथल मची हुई है. दोनों ही पार्टियों ने बंगाल में NRC को अपना एजेंडा बना लिया है. इस मामले में ताजा जानकारी के मुताबिक बीजेपी ने एनआरसी मुद्दे को भुनाने की पूरी कोशिश की है. बताया जा रहा है कि बीजेपी इस साल दुर्गा पूजा पंडालों में किताबों के स्टॉल के जरिए NRC के बारे में प्रचार करेगी.

बीजेपी दुर्गा पूजा के अवसर पर इसका खुलकर प्रचार करेगी
प्राप्त जानकारी के मुताबिक लोगों को एनआरसी के बारे में जागरुक करने के लिए बीजेपी दुर्गा पूजा के मौके को पूरी तरह भुनाने की कोशिश करेगी. बताया जा रहा है कि बीजेपी दुर्गा पूजा के अवसर पर इसका खुलकर प्रचार करेगी. इस बार बीजेपी पूजा में अपने और आरएसएस के किताब के स्टॉल में NRC मुद्दे के बारे में लोगों को गंभीर तरीके से जागरुक करेगी.

NRC को लेकर गलत प्रचार हो रहा है
पश्चिम बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष दिलीप घोष ने इस मुद्दे पर मीडिया के समझ एक प्रेस वार्ता में अपनी बात रखी थी. उन्होंने कहा "NRC पर हम लोग लीफलेट छपवा रहे हैं. NRC को लेकर गलत प्रचार हो रहा है कि बीजेपी बंगाली विरोधी है. ममता के प्रचार को गलत साबित करने के लिए लोगों के बीच जाना जरूरी है. लोग कन्फ्यूज्ड हैं NRC को लेकर. जिन हिन्दुओं का नाम NRC में नहीं आएगा उनको हम एक बिल लाकर नागरिकता प्रदान करेंगे. यही बात हम लोगों के सामने रखना चाहते हैं."

हिन्दुओं को खुश कर रही हैं ममता बनर्जी
ममता बनर्जी द्वारा दुर्गा पंडालों को चंदा देने के मुद्दे पर दिलीप घोष ने प्रेस वार्ता के दौरान कहा, "ममता बनर्जी हिन्दुओं को खुश कर रही हैं, जैसे मुसलमानों को इमाम भत्ता देती थीं. ये राजनीति गलत है. खुद को सेक्युलर बोल रही हैं ऊपर से पूजा में जा रही हैं. हम कोर्ट के राय से संतुष्ट नहीं हैं. सरकार को समझना चाहिए कि लोग इसे सही ढंग से नहीं ले रहे हैं. 10 हजार देकर अगर वोट मिलेगा तो ये सोच गलत है."

NRC पर एक किताब का विमोचन भी किया
प्रेस वार्ता के दौरान दिलीप घोष ने NRC पर एक किताब का विमोचन भी किया था. बताया जा रहा है कि इस किताब में National Register of Citizens ( NRC ) और नागरिकता बिल के बारे में और इसकी आवश्यकता कितनी जरूरी है को पूरे विस्तार के साथ समझाया गया है. गौरतलब है कि असम की तरह ही पश्चिम बंगाल में भी NRC को लागू करने के लिए बीजेपी पुरजोर कोशिश कर रही है. बीजेपी का दावा है कि असम की तरह पश्चिम बंगाल में भी भारी तादाद में बांग्लादेशी घुस चुके हैं जिसके चलते वहां के लोगों को रोजगार और रोजमर्रा की जिंदगी पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है. इसके साथ-साथ उनका कहना है कि बांग्लादेशी घुसपैठिए तरह-तरह के आपराधिक कार्यों से भी जुड़ जा रहे हैं जिसे उन्होंने हमारे देश की सुरक्षा के लिए भी एक बड़ा खतरा बताया.