close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सावधान पाकिस्तान! आ रहा है हिंदुस्तान का 'तूफान' राफेल, खत्म करेगा आतंकियों का खेल

राफेल के बारे में अब तक जो जानकारी थी, पाकिस्तान उससे परेशान था लेकिन भारत आने से पहले राफेल में जो बदलाव किए जा रहे हैं वो पाकिस्तान के होश उड़ाने वाले हैं. 

सावधान पाकिस्तान! आ रहा है हिंदुस्तान का 'तूफान' राफेल, खत्म करेगा आतंकियों का खेल
भारत को पहला राफेल विमान औपचारिक रूप से कल सौंपा जाएगा.

नई दिल्ली: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath singh) वायुसेना का पहला राफेल विमान (Rafael fighter jet) लेने के लिए आज फ्रांस रवाना हो गए हैं. भारत को पहला राफेल विमान औपचारिक रूप से कल सौंपा जाएगा. कल ही वायुसेना की स्थापना दिवस भी है. पहला राफेल लड़ाकू विमान लेने के बाद राजनाथ सिंह राफेल की शस्त्रपूजा (Shastra pooja) भी करेंगे. पूजा करने के बाद राजनाथ सिंह राफेल विमान में उड़ान भी भरेंगे. पूरी दुनिया कल विजयादशमी पर शस्त्र पूजा की सबसे अनोखी तस्वीर देखेगी. ये वो तस्वीर होगी जो आतंकिस्तान के होश उड़ा देगी. ये वो तस्वीर होगी जो पाकिस्तान को एक बार फिर बालाकोट की याद दिला देगी. दिल्ली से साढ़े 6 हज़ार किलोमीटर दूर फ्रांस के बॉगदू में महाशस्त्र पूजा होगी. 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने ट्वीट में कहा है कि हाल के वर्षों में भारत और फ्रांस के रिश्तों में तेजी से प्रगति हुई है और अपनी यात्रा के दौरान इन संबंधों को और मजबूत करने का प्रयास करूंगा. राजनाथ सिंह कल सुबह बोर्डेक्स के लिए रवाना होने से पहले सिंह पेरिस में फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों से मिलेंगे. दोनों के बीच रक्षा और सुरक्षा मुद्दों पर चर्चा होने की संभावना है. 36 विमानों में से पहला विमान रक्षा मंत्री को मंगलवार को ही मिल जाएगा लेकिन चार विमानों की पहली खेप अगले साल मई में भारत पहुंचेगी.

मीटिअर से लैस राफेल कितना खतरनाक होगा?
राफेल के बारे में अब तक जो जानकारी थी, पाकिस्तान उससे परेशान था लेकिन भारत आने से पहले राफेल में जो बदलाव किए जा रहे हैं वो पाकिस्तान के होश उड़ाने वाले हैं. भारत के लिए तैयार किए जा रहे हैं राफेल में मीटिअर और स्काल्प मिसाइलों को लैस किया जा रहा है, इसके चलते यह बेहद खतरनाक हो जाएगा. इन दोनों मिसाइलों से लैस राफेल भारत के लिए गेमचेंजर साबित होगा. मीटिअर एडवांस एक्टिव रडार सीकर से लैस है. ये हर तरह के मौसम में वार करने में सक्षम है. तेज रफ्तार जेट से लेकर छोटे मानव रहित विमानों के साथ-साथ क्रूज मिसाइलों को भी निशाना बना सकती है.

कालाधन: मोदी सरकार की बड़ी कामयाबी, स्विस बैंक के खाताधारकों की पहली लिस्ट मिली

 

LIVE टीवी: 

स्काल्प से लैस राफेल कितना खतरनाक होगा?
स्काल्प करीब 300 किमी. तक मार करने वाली मिसाइल है. यह पहले से तय हमलों को नाकाम करने या फिर स्थिर लक्ष्यों को भेदने में दक्ष है. स्काल्प ब्रिटेन की रॉयल एयरफोर्स और फ्रांसीसी वायुसेना का हिस्सा है. इसे खाड़ी युद्ध के दौरान भी इस्तेमाल किया गया था. ये सर्जिकल स्ट्राइक जैसे एक्शन को और आसानी से अंजाम दे सकती है. 

राफेल इंडियन एयरफोर्स के लिए इतना ज़रूरी आखिर क्यों है. कहते हैं कि भविष्य में युद्ध का अंजाम आसमान से तय होगा...ऐसे में भारतीय वायुसेना की हवाई ताकत आपके लिए जान लेना ज़रूरी है...वायुसेना में अभी लड़ाकू विमानों के 33 Squadrons हैं. हर एक Squadron में करीब 16-18 लड़ाकू विमान हैं. सबसे पुराने मिग 21 लड़ाकू विमानों के 8 Squadrons और मिग 27 विमानों के 3 Squadrons 2022 तक रिटायर हो जाएंगे. जगुआर लड़ाकू विमानों के 5 Squadrons भी 2027 तक रिटायरमेंट के करीब होंगे. अगर ऐसा हो गया तो 2027 तक 28 Squadrons तक पहुंच सकती है. इस हालात में जब राफेल हिंदुस्तान के आसमान की रक्षा करेगा तो देश महफूज रहेगा.

ये वीडियो भी देखें:

राफेल बनेगा आतंकियों का 'काल' 
राफेलक्रूज मिसाइल Storm Shadow से लैस होगा. 500 Km तक हवा से मार करनेवाली क्रूज मिसाइल है. 1000 किलोमीटर/घंटे की रफ्तार से अटैक करती है. लॉन्च के बाद कंट्रोल करने की जरूरत नहीं होती
करीब 450 किलोग्राम विस्फोटक ले जाने की क्षमता है. 

S-400 बनेगा हिंदुस्तान का 'कवच' 
हवा में एक साथ 36 Targets ध्वस्त कर सकता है. तीन तरह की अलग-अलग मिसाइलें दागने में सक्षम है. 400 किमी दूर से ही राडार दुश्मन को पहचान लेता है. अमेरिका के F-35 फाइटर जेट्स को भी गिरा सकता है.