बड़ा सवाल: कांग्रेस के लिए फौज 'भ्रष्ट', राष्ट्रवादी 'भ्रष्ट' लेकिन दंगाई शहीद कैसे

 सेना-पुलिस पर कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित ने एक बार फिर शर्मनाक बयान दिया है.

बड़ा सवाल: कांग्रेस के लिए फौज 'भ्रष्ट', राष्ट्रवादी 'भ्रष्ट' लेकिन दंगाई शहीद कैसे
सवाल यह भी है कि जो देश जलाएंगे वो क्या अब शहीद कहलाएंगे?

नई दिल्ली: सेना-पुलिस पर कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित ने एक बार फिर शर्मनाक बयान दिया है. संदीप दीक्षित कह रहे हैं सेना काली करतूत छिपाने के लिए नारे लगाती है. साथ ही देश की आधी से ज़्यादा पुलिस को भ्रष्ट बताया. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या -40 डिग्री में सरहद की रक्षा करने वाले जवान देश के दुश्मनों हैं?  सवाल यह भी है कि जो देश जलाएंगे वो क्या अब शहीद कहलाएंगे? कांग्रेस के लिए देश के रक्षक भ्रष्ट, तो दंगाई शहीद कैसे? 

ये रहा संदीप दीक्षित का शर्मनाक बयान  
कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित का कहना है, "जितनी ज्यादा भ्रष्ट संस्था है, उतनी ज्यादा वो राष्ट्रवाद की और कम्युनल बातें करती फिरेगी, यही वो अमलीजामा है जिसमें वो अपने काले करतूतों को छिपा लेते हैं. जब कभी पुलिस या कोई फौज इस तरह के नारे लगाए तो समझ लो कोई ना कोई काली करतूत वो छिपा रही है." 

कांग्रेस के एक अन्य नेता राशिद अल्वी ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में नागरिकता कानून की हिंसा में मारे गए लोगों को शहादत का दर्जा देना चाहिए. उनका कहना है, "मेरा मानना है उत्तर प्रदेश के अंदर जो 15-16 लोग मारे गए हैं वो पुलिस की गोली से मारे गए, उनको शहादत का दर्जा मिलना चाहिए. उनको मुआवजा भी मिलना चाहिए." सवाल यही है कि जो देश जलाएंगे वो क्या अब शहीद कहलाएंगे ?

बीजेपी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने संदीप दीक्षित के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, "हिंसा कहीं पर ना हो इसकी कोई अपील कांग्रेस का नेता नहीं कर रहा है, लेकिन हिंसा जब हो रही है और उसको रोकने जब पुलिस जा रही है तो उसके ख़िलाफ़ बयानबाजी की जा रही है. ये दुर्भाग्यपूर्ण है. इस तरह का बयान पुलिस का और सेना के मनोबल को गिराने का काम करता है." 

बीजेपी नेता जीवीएल नरसिम्हा राव का कहना है, "ये सोनिया, संदीप दीक्षित ये कांग्रेस की साज़िश है. ये कांग्रेस का हाथ अपराधियों के साथ, कांग्रेस का हाथ हिंसा के साथ, कांग्रेस का हाथ देश की सेना के ख़िलाफ़ है."