close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: नहीं थम रहा चमकी बुखार का कहर, बच्चों की मौत का आंकड़ा बढ़कर हुआ 144

चमकी बुखार के प्रकोप को लेकर कहा जा रहा है कि यह मुख्य रूप से लोगों में जागरुकता नहीं होने की वजह से तेजी से फैला है. 

बिहार: नहीं थम रहा चमकी बुखार का कहर, बच्चों की मौत का आंकड़ा बढ़कर हुआ 144
सिर्फ मुजफ्फरपर में अब तक चमकी बुखार से 117 बच्चों की मौत हो चुकी है.(फाइल फोटो)

मुजफ्फरपुरः बिहार में मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार (एईएस) की वजह से 144 से अधिक बच्चों की मौत हो चुकी है. वहीं, चमकी बुखार के प्रकोप को लेकर कहा जा रहा है कि यह मुख्य रूप से लोगों में जागरुकता नहीं होने की वजह से तेजी से फैला है. 

सिर्फ मुजफ्फरपर में अब तक चमकी बुखार से 117 बच्चों की मौत हो चुकी है. इसके अलावा वैशाली में 12, समस्तीपुर में 5, गया में 6, मोतिहारी और पटना में दो-दो बच्चों की मौत हुई है. चमकी बुखार का कहर ऐसा है कि चार दिनों में अस्पताल में फिर ठीक हो चुके बच्चे की अचानक मौत हो गई है. 

वहीं, आपको बता दें कि हालात का जायजा लेने के लिए खुद सीएम नीतीश कुमार मंगलवार को मुजफ्फरपुर स्थित एसकेएमसीएच अस्पताल पहुंचे लेकिन एसकेएमसीएच अस्पताल में लोगों ने नीतीश कुमार का जमकर विरोध किया. 

वहां मौजूद लोगों ने सीएम वापस जाओ का नारा लगाया. आपको बता दें कि लंबे से नीतीश कुमार के मुजफ्फरपुर नहीं पहुंचने के कारण सियासत हो रही है. वहां के लोगों में भी इस बात को लेकर आक्रोश था और आज जब नीतीश कुमार अस्पताल पहुंचे तो उन्हें विरोध का सामना करना पड़ा. 

आपको बता दें कि मुजफ्फरपुर में इन दिनों चमकी बुखार से पीड़ित बच्चों से पूरा अस्पताल भरा पड़ा है. वहीं, बच्चों की लाश भी दिख रहे हैं. अब इस प्रकोप के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री और राज्य सरकार के स्वास्थ्य मंत्री को मुख्य रूप से जिम्मेवार ठहराया जा रहा है.