पश्चिम बंगाल से वापस बिहार लाए गए 160 मजदूर, प्रशासन ने की व्यवस्था

लॉकडाउन में फंसे बिहार के 160 मजदूरों को घर वापस पहुंचाने की व्यवस्था प्रशासन ने की है. राज्य परिवहन दफ्तर की बस से काटवा शहर से बिहार के भागलपुर जिले के महेशपुर में इन सभी मजदूरों को वापस भेजा गया. 

पश्चिम बंगाल से वापस बिहार लाए गए 160 मजदूर, प्रशासन ने की व्यवस्था
सभी को पश्चिम बंगाल से बिहार लाने की व्यवस्था की गई. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

भागलपुर: पश्चिम बंगाल के पूर्वी वर्धमान जिले के काटवा से लॉकडाउन में फंसे बिहार के 160 मजदूरों को घर वापस पहुंचाने की व्यवस्था प्रशासन ने की है. राज्य परिवहन दफ्तर की बस से काटवा शहर से बिहार के भागलपुर जिले के महेशपुर में इन सभी मजदूरों को वापस भेजा गया. 

बीते बुधवार को भागलपुर के महेशपुर से 72 महिलाएं समेत 160 लोगों की एक मजदूरों की टीम कालना शहर के पूरबस्थली थाना  के लखीमपुर ग्राम में खेत में मजदूर के तौर पर काम करने आए थे. मजदूरों के इस दल में 19 बच्चे हैं. 

करोना वायरय चलते लॉकडाउन की घोषणा के बाद सभी मजदूर काफी घबरा गए थे. बीते शनिवार की रात को लखीमपुर ग्राम से खेत मज़दूरों का यह दल काटवा स्टेशन पहुंचा थे  मगर वहां आकर  उनको पता चला कि सभी ट्रेनें अब बंद हो चुकी हैं और भागलपुर जाने के लिए कोई भी ट्रेन मौजूद ना होने के चलते यह सभी लोग स्टेशन में ही रुक गए. 

रेल पुलिस के माध्यम से काटवा म्युनिसिपेलिटी को यह खबर पहुंचाई गई जिसके बाद मजदूरों के इस दल के लिए  म्युनिसिपेलिटी की तरफ से खाने-पीने का इंतजाम किया गया और साथ ही प्रशासन की तत्परता को देखते हुए राज्य सरकार के परिवहन दफ्तर की तरफ से दो बसों में इन सभी मजदूरों को बिहार के भागलपुर जिले की ओर रवाना किया गया . प्रशासन की तत्परता से इन मजदूरों के चेहरे पर खुशी की लहर दौड़ गई और सभी ने राहत की सांस ली .