बिहार में बंद होंगे 219 प्राइवेट हॉस्पिटल, पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने भेजा नोटिस

पीसीबी के चेयरमैन अशोक घोष ने कहा है कि बोर्ड की तरफ से 300 हॉस्पिटल और नर्सिंग होम्स को नोटिस भेजा गया था. 

बिहार में बंद होंगे 219 प्राइवेट हॉस्पिटल, पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने भेजा नोटिस
बिहार के 219 अस्पतालों को भेजा गया नोटिस. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पटना: बिहार के 219 प्राइवेट हॉस्पिटल और नर्सिंग होम बंद होंगे. पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड की ओर से लगातार नोटिस के बावजूद नियमों का पालन नहीं करने के कारण पीसीबी ने यह फैसला लिया है. पीसीबी के चेयरमैन ने कहा है कि मजबूर होकर उन्हें फैसला लेना पड़ रहा है. लगातार नोटिस के बावजूद ये हॉस्पिटल पॉल्यूशन के बुनियादी मानकों को भी मानने को तैयार नहीं हैं. 

बिहार में प्राइवेट हॉस्पीटल्स और नर्सिंग होम की मनमानी खत्म नहीं हो रही है. इसी मनमानी का नतीजा है कि कई हॉस्पिटल और नर्सिंग होम्स पॉल्यूशन के कारण बने हुए हैं. बिहार में 219 हॉस्पिटल ऐसे हैं जो पॉल्यूशन मानकों को नहीं मानते हैं. पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने ऐसे तमाम हॉस्पीटल और नर्सिंग होम्स को क्लोजर नोटिस भेज दिया है.

पीसीबी के चेयरमैन अशोक घोष ने कहा है कि बोर्ड की तरफ से 300 हॉस्पिटल और नर्सिंग होम्स को नोटिस भेजा गया था. केवल 80 संस्थानों ने पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड से एनओसी लिया है. जबकि सभी को लगातार नोटिस दिया जा रहा है. यहां तक की विज्ञापन के जरिये भी सबको सूचना दी गयी है. लेकिन उसके बावजूद हॉस्पिटल अपनी मनमानी कर रहे हैं. हमने ऐसे मेडिकल संस्थानों को क्लोजर नोटिस भेज दिया है.

अशोक घोष बताते हैं कि अगर हॉस्पिटल में मरीजों को भर्ती किया जाता है तो पॉल्यूशन के लहजे से उसके लिए विशेष नियम हैं. हॉस्पिटल में ईटीपी और एसटीपीईटी मशीन लगाना बेहद जरुरी है. हॉस्पिटल का मेडिकल वेस्ट साधारण वेस्ट की तरह नहीं फेंका जा सकता है. मेडिकल वेस्ट के डिस्पोजल के लिए इंसीनरेशन फैसलिटी वाले सेंटर से टाईअप करना बेहद जरूरी है.

इसके अलावा हॉस्पिटल में गीले और सूखे कचरे के लिए अलग-अलग रंग के डस्टबीन भी लगाने होंगे. निडिल को डिस्पोज करने के लिए स्पेशल कटर भी हॉस्पिटल के पास होना चाहिए. हॉस्पिटल का लिक्विड वेस्ट बिना ट्रीट किये हुए नालों में न बहाया जाय, ये ख्याल रखना जरूरी है. लेकिन कई हॉस्पीटल इन मानकों का ख्याल न रखकर प्रदूषण नियंत्रण में सहयोग नहीं कर रहे.