रांची: 40 दिन बाद मिला 3 युवकों का शव, पुलिस ने इस तरह सुलझाई मर्डर मिस्ट्री...

एसपी ने कहा कि मृतक के परिजनों ने बताया कि 14 अक्टूबर को बिरबांकी ससुराल जाने की बात पर निकले थे, इसके बाद वापस घर नहीं लौटे. विशेष टीम बनाकर छानबीन जारी थी.

रांची: 40 दिन बाद मिला 3 युवकों का शव, पुलिस ने इस तरह सुलझाई मर्डर मिस्ट्री...
40 दिन बाद मिला तीनों युवकों का शव.

मनोज कुमार/खूंटी: खूंटी पुलिस ने अड़की थाना क्षेत्र के बिरबांकी से बीते 14 अक्टूबर 2020 से लापता तीन युवकों महेंद्र मुंडा, मुंडका मुंडा और दुर्गा मुंडा का शव आखिरकार 40 दिनों बाद क्षित विक्षित अवस्था में अड़की के कोरेया स्थित पोड़ेया जंगल से बरामद किया है. साथ ही हत्याकांड में शामिल तीन लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. गिरफ्तार होने वाले आरोपियों में कोरेया गांव निवासी महेंद्र मुंडा के ससुर सांडे बोदरा, कानूराम बोदरा व एक महिला के नाम शामिल है. 

खूंटी के एसपी आशुतोष शेखर ने इसकी पुष्टि की. एसपी ने बताया कि अपने दामाद महेंद्र मुंडा पर अपनी बेटी की हत्या करने के साजिश रचने के शक पर सांडे बोदरा ने अपने भाई, पत्नी व अन्य लोगों ने मिलकर तीनों युवकों को कोरेया गांव  बुलाया. उस समय महेंद्र के साथ मुंडका और दुर्गा भी कोरेया पहुंचे थे. तीनों को रात में खिलाया पिलाया गया और हत्या कर सर कलम कर शव को जंगल में दफन कर दिया था. 

एसपी ने कहा कि मृतक के परिजनों ने बताया कि 14 अक्टूबर को बिरबांकी ससुराल जाने की बात पर निकले थे, इसके बाद वापस घर नहीं लौटे. विशेष टीम बनाकर छानबीन जारी थी. इसी क्रम में मृतक के ससुराल कोरेया में भी पूछताछ हुई. इसके बाद मामले का खुलासा हुआ और उक्त कार्रवाई की गई. गिरफ्तार अभियुक्तों की निशानदेही पर ही शव और इनके गायब किए गए सर को भी बरामद किया गया. शव को पुलिस ने पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों को  सौंप दिया है.

जानकारी के अनुसार, जुलाई महीने में ही सांडे बोदरा की बेटी क्रिस्टीना की हत्या हुई थी. उस दौरान हत्या का शक क्रिस्टीना के ससुराल वालों पर था. इसी बात से आहत होकर हत्याकांड को अंजाम दिया गया.