झारखंड: 5 लाख के इनामी सबजोनल कमांडर ने 3 साथियों संग किया आत्मसमर्पण, कहा...

डीआईजी अखिलेश झा ने अन्य माओवादियों से भी पुनर्वास नीति के तहत सरेंडर करने की अपील की है और जो अभी भी भटके हैं उन्हें सख्त लहजे में चेतावनी भी दी है.

झारखंड: 5 लाख के इनामी सबजोनल कमांडर ने 3 साथियों संग किया आत्मसमर्पण, कहा...
5 लाख के इनामी सबजोनल कमांडर ने 3 साथियों संग किया आत्मसमर्पण.

रांची: झारखंड सरकार की आत्मसमर्पण एवं पुनर्वास नीति 'नई दिशा एक नई पहल' के तहत 5 लाख का इनामी माओवादी सब जोनल कमांडर बोयदा पहान ने अपने हथियार और तीन साथियों के साथ आत्मसमर्पण किया।

दरअसल, पुलिस ने 5 लाख का इनामी माओवादी सब जोनल कमांडर बोयदा पहान को गिरफ्तार किया है. जो इतना कुख्यात है जिस पर विभिन्न थानों में 48 मामले दर्ज हैं. सब जोनल कमांडर बोयदा पाहन ने अपने 3 साथियों के साथ कार्बाइन, कारतूस, पिस्टल और 2 रायफल भी पुलिस को सौंपा.

मामले पर जानकारी देते हुए डीआईजी अखिलेश झा ने बताया कि माओवादी विचारधारा से दिग्भ्रमित होकर इन  माओवादी दस्ता ज्वाइन किया था. लेकिन पुलिस की बढ़ती दबिश और सरकार की पुनर्वास नीति से इन सभी ने प्रभावित होकर आत्मसमर्पण किया है.

वहीं, डीआईजी अखिलेश झा ने अन्य माओवादियों से भी पुनर्वास नीति के तहत सरेंडर करने की अपील की है और जो अभी भी भटके हैं उन्हें सख्त लहजे में चेतावनी भी दी है. मामले को लेकर रांची के उपायुक्त रवि रंजन ने कहा कि आत्मसमर्पण करने वाले सभी माओवादियों को सरकार की पुनर्वास नीति के तहत लाभ दिया जाएगा.

उन्होंने बताया कि सभी उग्रवादियों के बच्चों को मुफ्त शिक्षा एवं स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी. साथ ही सभी को सरकारी योजनाओं से आच्छादित किया जाएगा. वहीं, आत्मसमर्पण करने वाले सब जोनल कमांडर बोरदा पहन ने कहा कि सरकार की आत्मसमर्पण नीति से वह प्रभावित हुए हैं और उन्होंने अपने साथियों के साथ सरेंडर किया है. 

बोयदा पहन बताते हैं कि 2009 में वह कुंदन पाहन के दस्ते में शामिल हुए था. लेकिन अब संगठन अपनी विचारधारा से भटक गया है. संगठन में महिलाओं को कई तरह का प्रलोभन देकर शामिल किया जाता है. उन्होंने महिलाओं के शोषण की बात से भी इनकार नहीं किया.