कन्नी-बसुली थामकर भवन निर्माण में लगी 5 महिलाएं, परिवार की आर्थिक स्थिति बताई वजह

राजनदीपुर की मीरा देवी समेत पांच महिलाओं ने अपने घर की स्थिति और अपने बच्चों के भविष्य को निखारने के उद्देश्य से, अपने हाथों में कन्नी-बसुली एवं साहुल लेकर मजदूरी कर रही हैं.

कन्नी-बसुली थामकर भवन निर्माण में लगी 5 महिलाएं, परिवार की आर्थिक स्थिति बताई वजह
कन्नी-बसुली थामकर भवन निर्माण में लगी 5 महिलाएं, परिवार की आर्थिक स्थिति बताई वजह.

भागलपुर: भागलपुर के राजनदीपुर की 5 महिलाओं ने अपने हांथो में कन्नी-बसुली थाम कर, अपने बच्चों के भविष्य के लिए पिछले पांच साल से लगातार मजदूरी कर रही हैं. इन महिलाओं की हिम्मत को लोग खुले दिल से तारीफ भी कर रहे हैं.

दरअसल, भागलपुर सबौर राजनदीपुर की मीरा देवी समेत पांच महिलाओं ने अपने घर की स्थिति और अपने बच्चों के भविष्य को निखारने के उद्देश्य से, अपने हाथों में कन्नी-बसुली एवं साहुल लेकर मजदूरी कर रही हैं. इसमें से मीरा देवी राज मिस्त्री का काम करती हैं.

मीरा देवी खुद अपने हाथों से अपना घर बनाई हैं. साथ ही, शहर में कई खूबसूरत भवन निर्माण भी की हैं. राज मिस्त्री एवं मजदूरी कर ये महिला, अपनी बेटी को पुलिस अफसर बनाना चाहती है. वहीँ, मीरा देवी की बेटी प्रियंका ने बताया कि, उसका परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा था. खेत-खलिहान सब गंगा में समा गया है.

प्रियंका ने कहा कि, उसके पिता उनको पढ़ाना तो दूर, दो वक्त का खाना खिलाने में भी असमर्थ हो रहे थे, जिसके कारण उसकी मां ने खुद कन्नी-वसुली एवं कुदाल लेकर मजदूरी करने निकल पड़ी. प्रियंका ने कहा कि, वो पुलिस अफसर बनना चाहती है.