झारखंड में कोविड से एक ही परिवार के 6 की मौत, डॉक्टर बोले...

डॉ बृजेश मिश्रा ने कहा कि, जब किसी मरीज का हम इलाज करते हैं तो, उसके दिल और आत्मा के साथ हो जाते हैं. उस परिवार के दुख के साथ यहां के चिकित्सकों को भी दुख है.

झारखंड में कोविड से एक ही परिवार के 6 की मौत, डॉक्टर बोले...
झारखंड में कोविड से एक ही परिवार के 6 की मौत, डॉक्टर बोले...

रांची: वैश्विक महामारी कोरोना (Corona) ने पूरे विश्व में कोहराम मचा रखा है. कोयलांचल धनबाद में कोरोना अब विस्फोटक रूप ले चुका है. कोरोना के कहर ने जिले में एक हंसते-खेलते परिवार को पूरी तरह से तबाह कर दिया. जिले के कतरास इलाके के रहने वाले चौधरी परिवार इस कहर को भली-भांति समझ रहे हैं. यहां एक हंसता-खेलता पूरा परिवार कोरोना की चपेट में आ गया और एक-एक कर घर के 6 सदस्यों की मौत हो गई.

जानकारी के अनुसार, 4 जुलाई से शुरू हुआ मौत का सिलसिला 20 जुलाई तक 6 के आंकड़ा को छू गया. वहीं, कोरोना संक्रमितों का इलाज करने वाले रिम्स (RIMS) के नोडल अधिकारी डॉ बृजेश मिश्रा ने कहा कि, जब किसी मरीज का हम इलाज करते हैं तो, उसके दिल और आत्मा के साथ हो जाते हैं. उस परिवार के दुख के साथ यहां के चिकित्सकों को भी दुख है.

मिश्रा ने कहा कि, यह समाज को एक संदेश भी दे रहा है कि, कोरोना एक घातक बीमारी है और इससे बचने की जरूरत है. वहीं, रिम्स के कोविड विभाग के डॉ देवेश ने कहा कि, कोरोना संक्रमण का फिजिकल हेल्थ पर इफेक्ट तो पड़ता ही है, इसका सोशल इफेक्ट भी होता है. जब एक परिवार के सभी सदस्य संक्रमित हो जाते हैं और एक-एक कर उनकी मौत हो जाती है. इसका एक बहुत बड़ा सामाजिक प्रभाव है.

इधर, जबकि रिम्स के कोविड वार्ड में ड्यूटी कर रही सीनियर नर्स रामरेखा राय ने कहा कि, यह दुख की घड़ी है कि, हमारे मेहनत और सेवा के बावजूद भी उनके फैमिली के सभी लोगों की मौत हो गई. हमारे डॉक्टर और नर्स ने मिलकर सभी संक्रमितों का बेहतर इलाज किया, लेकिन दुख है कि उन्हें हम बचा नहीं पाए.