close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मधुबनी के युवक ने जीता केबीसी में एक करोड़, मनवाया अपनी प्रतिभा का लोहा

 चर्चित और लोकप्रिय टीवी शो कौन बनेगा करोड़पति में मधुबनी के गौतम कुमार झा ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाते हुए 1 करोड़ रुपए जीतने का गौरव हासिल किया है.

मधुबनी के युवक ने जीता केबीसी में एक करोड़, मनवाया अपनी प्रतिभा का लोहा
गौतम मधुबनी जिले के अंधराठाढ़ी प्रखंड स्थित गंगद्वार गांव के रहने वाले हैं.

मधुबनी: बिहार के मधुबनी जिला के युवक ने केबीसी में एक करोड़ जीतकर जिले को गौरवान्वित किया है. चर्चित और लोकप्रिय टीवी शो कौन बनेगा करोड़पति में मधुबनी के गौतम कुमार झा ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाते हुए 1 करोड़ रुपए जीतने का गौरव हासिल किया है.

गौतम मधुबनी जिले के अंधराठाढ़ी प्रखंड स्थित गंगद्वार गांव के रहने वाले हैं. गौतम के पिता अरविंद कुमार झा मधुबनी में वरिष्ठ वकील हैं और पूरे परिवार के साथ आदर्श नगर मोहल्ले में रह रहे हैं. उन्हें अपने बेटे की सफलता पर नाज है. अरविंद कुमार झा का कहना है कि उनके बेटे ने अपनी प्रतिभा की बदौलत ना सिर्फ मधुबनी बल्कि पूरे बिहार का मान-सम्मान बढ़ाया है. 

गौतम की मां अपने बेटे की कामयाबी पर भावुक होकर कहा कि गौतम बचपन से ही काफी मेधावी रहा है. काफी कठिनाइयों का सामना करते हुए आगे बढ़ा. गौतम के दादाजी रिटायर्ड प्रोफेसर हैं और अपने पोते की उपलब्धि पर फुले नहीं समा रहे हैं. 

मधुबनी के रामकृष्ण महाविद्यालय से इंटरमीडिएट की पढ़ाई करने के बाद देहरादून और धनबाद से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने वाले गौतम कुमार झा पेशे से रेलवे में इंजीनियर हैं. फिलहाल पश्चिम बंगाल के आद्रा में पोस्टेड हैं. केबीसी में गौतम के परचम लहराने की खबर मिलने के बाद गौतम के परिजनों के साथ ही मधुबनी वासियों में भी खासा उत्साह है.

कौन बनेगा करोड़पति प्रोग्राम में गौतम के एक करोड़ जीतने वाले एपिसोड का प्रसारण 15 और 16 अक्टूबर को होना है. लोग बेसब्री से उस एपिसोड का इंतजार कर रहे हैं. गौतम की उपलब्धि पर उनके नाते-रिश्तेदार भी काफी खुश हैं.

गौतम की शादी श्वेता कुमारी के साथ दो वर्ष पूर्व हुई थी. मधुबनी के सलेमपुर गांव स्थित उनके ससुराल में जश्न का माहौल है,उनके ससुर प्रोफसर अरुण कुमार ठाकुर और सास को अपने दामाद की कामयाबी पर गर्व है. उनका कहना है कि मधुबनी ज्ञान की भूमि रही है, और उनके दामाद ने अपनी विद्वता से एक बार फिर इस बात को साबित कर दिखाया है.