close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कभी थे झारखंड के सबसे बड़े डॉक्टर, संपत्ति के लिए बेटी ने अमेरिका में बनाया बंधक

डॉ. एबी बलसारा झारखंड के काफी प्रसिद्ध न्यूरो फिजिशियन रहे हैं. मरीजों के मुफ्त इलाज का डॉक्टर का रिकार्ड रहा है. लेकिन अब इस डॉक्टर की संपत्ति जान की दुश्मन बन गई है. कभी बेटा किडनैप करता है तो कभी बेटी.  

 कभी थे झारखंड के सबसे बड़े डॉक्टर, संपत्ति के लिए बेटी ने अमेरिका में बनाया बंधक
डॉ.एबी बलसारा झारखंड के काफी प्रसिद्ध न्यूरो फिजिशियन रहे हैं.

जमशेदपुर: अक्सर माना जाता है कि बुढ़ापे में बच्चे अपने परिजनों का सहारा बनते हैं लेकिन कई बार बच्चे रिश्तों को ताक पर रख मानवता को भी शर्मसार कर देते हैं. झारखंड के  जमशेदपुर में संपत्ति को लेकर बच्चों द्वारा पिता को बंधक बनाकर रखने का मामला सामने आया है. झारखंड के जमशेदपुर में एक डॉक्टर को उसके ही बेटे और बेटी ने बंधक बनाकर अमेरिका में रखा था. संपत्ति के कारण डॉक्टर छोटे बेटे व बेटी उन्हें किडनेप कर अमरीका में रखा था. बड़े बेटे ने दूतावास के मदद से उन्हें छुड़वाया और भारत वापस ले कर आ गया.

डॉ. एबी बलसारा झारखंड के काफी प्रसिद्ध न्यूरो फिजिशियन रहे हैं. मरीजों के मुफ्त इलाज का डॉक्टर का रिकार्ड रहा है. लेकिन अब इस डॉक्टर की संपत्ति जान की दुश्मन बन गई है. कभी बेटा किडनैप करता है तो कभी बेटी.

 

अब इस मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. डॉ. एबी बलसारा को अमेरिका में बेटी ने बंधक बना लिया था. वे बड़ी मशक्कत के बाद बंधक मुक्त होकर जमशेदपुर लौट आए हैं. उन्होंने बताया है कि बेटी की योजना किसी तरह जान ले लेने की थी ताकि चल-अचल संपत्ति पर कब्जा जमा सकें.

बड़े बेटे डॉ. फरहाद बलसारा ने अमेरिका स्थित भारतीय दूतावास की मदद से उन्हें छुड़ाकर यहां लाया है. डॉ. बलसारा पारसी परिवार से ताल्लुक रखते हैं. शनिवार को डॉ बलसारा ने अपने बेटे और वकील संग मीडिया से आपबीती साझा की. उन्होंने बताया कि वस्तुस्थिति से जमशेदपुर के बिष्टुपुर थाना की पुलिस को भी अवगत करा दिया है. 

गौरतलब हो कि डॉ बलसारा ने अपने बेटे डॉ फरहाद बलसारा के खिलाफ बिष्टुपुर थाना में मामला दर्ज कराया था और उसके बाद यह बात सामने आई थी कि वह बेटी के यहां अमेरिका चले गए हैं. क्योंकि उन्हें यहां बेटे से जान को खतरा और उनकी देखरेख भी ठीक ठंग से नहीं हो पा रही थी.

बहरहाल डॉ तो अब भारत लौट चुके है और अपने बड़े बेटे के साथ रह रहे है लेकिन उन्होंने के कभी नही सोचा था कि मुफ्त में इलाज करने वाले के साथ उनके खुद के सगे बेटा और बेटी संपति के लिए इस तरह से रवैया अपनाएंगे और दुश्मन बन जाएंगे.