close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बेगूसराय: फेसबुक पर बने दोस्त और हुआ प्यार, मिलते ही रचाई शादी

दोनों प्रेमी जोड़े ने इस प्यार को अंतिम अंजाम तक पहुंचाने की ठान ली और दोनों घर से फरार हो गए. भागकर तालकेश्वर कुमार अपनी प्रेमिका मौसमी सहित बेगूसराय आ गए और उन्होंने गढ़पुरा थाना क्षेत्र के हरी गिरी धाम में शादी की. फिर इसे कानूनी रूप देने के लिए मुंगेर कोर्ट में विधिवत विवाह किया.

बेगूसराय: फेसबुक पर बने दोस्त और हुआ प्यार, मिलते ही रचाई शादी
दोनों परिवार ने खुशी-खुशी इस रिश्ते को मंजूर कर लिया.

बेगूसराय: बिहार के एक बेगूसराय में सामने आया है जहां फेसबुक के जरिये पहले प्यार हुआ फिर दोनों राज्य की सीमाएं भी इसे शादी के बंधन में बंधने से नहीं रोक पाई. दरअसल बंगाल के नादिया जिले के नवादीप थाना क्षेत्र के कुटिरपारा की रहने वाली मौसमी दास को बिहार के बेगूसराय जिले के लाखो थाना क्षेत्र के भगवानपुर बहदरपुर के रहने वाले तालकेश्वर कुमार से फेसबुक पर दोस्ती हुई फिर दोस्ती धीरे-धीरे चैटिंग और प्यार में बदल गया.

इसके बाद दोनों प्रेमी जोड़े ने इस प्यार को अंतिम अंजाम तक पहुंचाने की ठान ली और दोनों घर से फरार हो गए. भागकर तालकेश्वर कुमार अपनी प्रेमिका मौसमी सहित बेगूसराय आ गए और उन्होंने गढ़पुरा थाना क्षेत्र के हरी गिरी धाम में शादी की. फिर इसे कानूनी रूप देने के लिए मुंगेर कोर्ट में विधिवत विवाह किया. तालकेश्वर कुमार के अनुसार प्यार एक ऐसी चीज है जो कभी भी, कहीं भी और किसी से भी हो सकती है.

उन्होंने कहा कि मैं मौसमी से मिलने के लिए उसके घर गया था. फिर दोनों ने शादी करने का फैसला किया और 13 तारीख को हमलोग गढपुरा के हरिगरिधाम मे शादी रचाया. उसके बाद 14 तारीख को मुंगेर कोर्ट मे शादी कर ली. उन्होंने कहा कि एक साल से हमलोग फेसबुक पर आपस में बहुत सारी बातें किया करते थे. 

दरअसल मौसमी कुमारी बीए पार्ट 2 की छात्रा थी और कॉलेज जाने के बहाने घर से निकली थी. लेकिन जब शाम तक मौसमी कुमारी अपने घर वापस नहीं आई तो परिजनों को इसकी फिक्र सताने लगी फिर उन्होंने बंगाल स्थित स्थानीय थाना में मौसमी के लापता होने का मामला दर्ज करवाया. इसके बाद पुलिस भी हरकत में आई और मोबाइल सर्विलांस के सहारे मौसमी की खोजबीन शुरू हुई फिर बाद में पुलिस भी सारे मामलों के तार को जोड़ते हुए इस मामले के अंजाम तक पहुंच गई और बेगूसराय पहुंच गई.

लेकिन यहां आकर जब मौसमी के परिजनों ने अपनी पुत्री को परिणय सूत्र में बंधा देखा तो उन्होंने भी राहत की सांस ली तथा लड़के के परिजनों के द्वारा जब मौसमी के प्रति कुशल व्यवहार की बातें सामने आई तो मौसमी के परिजनों ने भी राहत की सांस ली और अब दोनों परिवार ने खुशी-खुशी इस रिश्ते को मंजूर कर लिया.

वहीं, मौसमी कुमारी भी अपनी अपने प्यार को पाकर अब फूली नहीं समा रही और साथ जीने मरने की कसमों के सहारे फेसबुक तथा अपने परिजनों को भी धन्यवाद दे रही है.