close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सुषमा स्वराज को याद कर रहा पश्चिमी अफ्रीका में फंसा परिवार, लगा रहा मदद की गुहार

बिहार के बेतिया जिले का एक परिवार पश्चिम अफ्रीका में फंस गया है. वह तीन महीने पहले पति पत्नी बच्ची के साथ पश्चिम अफ्रीका गया था. 

सुषमा स्वराज को याद कर रहा पश्चिमी अफ्रीका में फंसा परिवार, लगा रहा मदद की गुहार
पश्चिम अफ्रीका में एक परिवार फंस गया है.

धनंजय द्विवेदी/बेतियाः बिहार के बेतिया जिले का एक परिवार पश्चिम अफ्रीका में फंस गया है. वह तीन महीने पहले पति पत्नी बच्ची के साथ पश्चिम अफ्रीका गया था. वहां आबिद जाम शहर में नौकरी करने के लिए परिवार के साथ गए थे. लेकिन उसके साथ ऐसी घटना हुई कि पूरी परिवार वहां फंस गया है. अब परिवार पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को याद कर रहा है. और वहां से बाहर निकालने की गुहार लगा रहा है.

दरअसल, सोशल मीडिया पर निशांत कुमार पोद्दार की पत्नी सोनल अपनी बच्ची के साथ गुहार लगा रही है. वह सुषमा स्वराज को याद कर रही है कि वह उनकी मदद करें. उसने बताया कि उसके पास पैसे नहीं हैं और बच्चों को खिलाने के लिए कुछ भी नहीं है. उसकी खुद की तबीयत खराब है. सोनल ने बताया कि उनका पासपोर्ट जब्त कर लिया गया है.

बताया जा रहा है कि निशांत कुमार पोद्दार वहां जिस कंपनी में काम करता था. उसका कैश उसके घर में रखा जाता था. बाद में कंपनी के लोग कैश ले जाते थे. लेकिन बीते रविवार को कैश नहीं ले जाया गया. फिर दोनों पति-पत्नी बच्चे के साथ बाजार गए थे लेकिन इस दौरान उनके घर में चोरी हो गई. और सारा कैश ले गए. जब मकान मालिक को बताया गया तो उन्होंने पुलिस को बुला लिया और निशांत कुमार पोद्दार को गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें जेल भेज दिया गया.

अब मकान मालिक महिला से डेढ़ करोड़ रुपया मांग रहा है. जिसके बाद सोनल ने सोशल मीडिया के माध्यम से भारत से मदद की गुहार लगाई है.

वहीं, बेतिया के लालबाजार के रहने वाले प्रमोद पोद्दार ने बताया कि निशांत और सोनल को बचाने के लिए उनके मदद के लिए राज्य सरकार से केंद्र सरकार तक मदद की गुहार लगा रहे हैं. लेकिन अभी तक कोई मदद नहीं मिली है.

आपको बता दें कि, ऐसे कई मामले पहले भी आ चुके हैं. जिसके लिए पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज मदद के लिए तत्पर रहती थी. वह विदेशों में फंसे ऐसे कई लोगों को निकाला था. लेकिन हाल ही में उनका निधन हो गया है. लेकिन फिर भी परिवार को सुषमा स्वराज की आश है.