छपरा स्टेशन के पास बेपटरी हो गई मालगाड़ी, आधा दर्जन ट्रेनों का परिचालन हुआ बाधित

इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है. करीब आधा दर्जन ट्रेनों का परिचालन बाधित हुआ है, जिसमें सूरत-मुजफ्फरपुर एक्सप्रेस, लखनऊ-बरौनी एक्सप्रेस, बरौनी-ग्वालियर एक्सप्रेस आदि ट्रेनें शामिल है.

छपरा स्टेशन के पास बेपटरी हो गई मालगाड़ी, आधा दर्जन ट्रेनों का परिचालन हुआ बाधित
छपरा स्टेशन के पास बेपटरी हो गई मालगाड़ी, आधा दर्जन ट्रेनों का परिचालन हुआ बाधित.

छपरा: पूर्वोत्तर रेलवे के छपरा-सोनपुर रेलखंड पर छपरा ग्रामीण स्टेशन के समीप डाउन सीजीएस माल ट्रेन शनिवार तथा रविवार की मध्य रात करीब 12:10 पर दुर्घटना की शिकार हो गई. दुर्घटना छपरा ग्रामीण स्टेशन के कांटा संख्या 207 बी के पास हुई. छपरा कचहरी स्टेशन से माल ट्रेन 12:02 पर प्रस्थान की तथा छपरा ग्रामीण स्टेशन से गुजरते समय उसके एक डिब्बे के दो पहिया पटरी से उतर गए. 

घटना की सूचना स्टेशन मास्टर ने कंट्रोल को दी. कंट्रोल की सूचना के आधार पर छपरा जंक्शन से दुर्घटना सहायता यान को रात में ही भेजा गया, जिसके बाद अहले-सुबह करीब 3:15 पर माल ट्रेन को पटरी पर लाया गया, जिसके बाद ट्रेनों का परिचालन बहाल हो सका.

इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है. करीब आधा दर्जन ट्रेनों का परिचालन बाधित हुआ है, जिसमें सूरत-मुजफ्फरपुर एक्सप्रेस, लखनऊ-बरौनी एक्सप्रेस, बरौनी-ग्वालियर एक्सप्रेस आदि ट्रेनें शामिल है.

बताया जाता है कि रात करीब 12:10 पर दुर्घटना की सूचना मिलने के बाद दुर्घटना सहायता यान के हूटर बजाया गया और सभी रेलकर्मी छपरा जंक्शन पहुंचे. रात को 2:10 पर दुर्घटना सहायता यान को रवाना किया गया. दुर्घटना सहायता यान पर सवार गैंगमैन, ट्रैक मैन, कैरेज एंड वैगन के कर्मियों के कड़ी मशक्कत के बाद दुर्घटनाग्रस्त ट्रेन के डिब्बे को इंजन से डिस्कनेक्ट किया गया और उसे पटरी पर लाया गया.

मिली जानकारी के मुताबिक माल ट्रेन में कुल 27 डिब्बे एवं एक एसएलआर कोच लगाया गया था. डाउन सीजीएस माल ट्रेन इंजन से पहला डिब्बा ही पटरी से उतरा था. उसके आगे के दोनों एक्सेल के दोनों चक्के पटरी से उतर गए थे. इस घटना को लेकर मंडल रेल प्रबंधक ने जांच का आदेश दे दिया है. स्थानीय स्तर पर गठित संयुक्त जांच दल के द्वारा जांच रिपोर्ट रेल प्रशासन को सौंप दिया गया है. 

प्रथम दृष्टया जांच में यह बात सामने आई है कि ट्रैक में कहीं कोई क्षति नहीं पाया गया है और ट्रैक का मैनेजमेंट एवं बैगन के निरीक्षण में ऐसी आशंका हो रही है कि दुर्घटना का कारण बंपिंग हो सकता है, जिसकी जांच स्पीडोमीटर एवं कंटेंट के सूक्ष्म निरीक्षण के बाद पता चल पाएगा. साथ ही बैगन मेजरमेंट कराना आवश्यक प्रतीत होता है. माल ट्रेन के उस डिब्बे पर कार लदा हुआ था. 

दुर्घटना के बाद घटनास्थल पर रात में सी एल आई प्यारे लाल चौधरी, सीएसआई सुभाष चंद्र यादव, कैरिज एंड वैगन के सीनियर सेक्शन इंजीनियर महबूब आलम, सीनियर सेक्शन इंजीनियर (रेल पथ) राजकुमार के अलावा रेलवे सुरक्षा बल के उप निरीक्षक संजय कुमार पांडेय, हेड कांस्टेबल विनय स्वरूप निषाद, कांस्टेबल वीएस गोङ आदि पहुंचे. छपरा ग्रामीण स्टेशन पर सुरक्षा को लेकर तैनात हेड कांस्टेबल संतोष कुमार राय, सुभाष चंद्र आर्य आदि ने भी दुर्घटना के बाद आरपीएफ के अधिकारियों को जानकारी दी. 

रेलवे के आधिकारिक सूत्रों ने इसे आकस्मिक दुर्घटना बताया है और किसी तरह के अपराधिक गतिविधि से इनकार किया है. दुर्घटना की शिकार माल ट्रेन के डिब्बे को पटरी पर लाने के बाद छपरा कचहरी लाया गया, जिसके बाद ट्रेनों का परिचालन शुरू हो सका. इस दौरान अप एवं डाउन दिशाओं की ट्रेनों को छपरा जंक्शन छपरा कचहरी तथा गोलडेनगंज दिघवारा एवं सोनपुर स्टेशनों पर रोक कर रखा गया.