झारखंड: बिजली की चपेट में आई गर्भवती हथिनी की मौत

टंडवा रेंजर छोटेलाल ने बताया कि बिजली करंट के चपेट में आने से हुई. जानकारी के अनुसार हाथियों का दो झुंड टंडवा-पिपरवार में प्रवेश किया था. एक में 18 और दूसरे मे 22 की संख्या थी. 

झारखंड: बिजली की चपेट में आई गर्भवती हथिनी की मौत
झारखंड: बिजली की चपेट में आई गर्भवती हथिनी की मौत.

चतरा: झारखंड के टंडवा में पिछले 15 दिनों से टंडवा, सिमरिया, केरेडारी और पिपरवार थाना के सीमाओं में विचरण कर रहे जंगली हाथियों के झुड में से एक गर्भवती हथिनी की मौत हो गई. यह घटना टंडवा के सीमाओ से निकलने के दौरान खलारी थाना के भेलवाटाड़ जंगल मे तब मच गई जब वह बिजली करंट के चपेट में आ गई. 

टंडवा रेंजर छोटेलाल ने बताया कि बिजली करंट के चपेट में आने से हुई. जानकारी के अनुसार हाथियों का दो झुंड टंडवा-पिपरवार में प्रवेश किया था. एक में 18 और दूसरे मे 22 की संख्या थी. 

फिलहाल 22 हाथियों के समूह में से एक हथिनी की मौत हो गई है. अब यह संख्या घटकर 18-19 की हो गई है. बताया गया कि शुक्रवार की रात में एक हाथी ने इद्रीश अंसारी का बाउंडरी क्षतिग्रस्त कर दिया और फसलों को भी रौंद दिया. 

रेंजर ने यह भी बताया कि 12 हाथियों का एक और झुंड चार दिनों के अंदर केरेडारी होते आम्रपाली कॉरिडोर मे प्रवेश कर सकता है. बताया गया कि हाथियों का काफिला फिलहाल सीमा पार वन विभाग करवाने में सफल रहा है.